Jan 17, 2022 · 1 min read

इश्क़ के सामाजिक सरोकार

ज़िंदगी के कशमकश से
अलहदा करे जो इश्क़!
दुनिया के जद्दोजेहद से
अलहदा करे जो इश्क़!
वह इश्क़ ज़ेहनी तौर पर
खुदकुशी है दरअसल!
मौजूदा वक़्त की बहस से
अलहदा करे जो इश्क़!
Shekhar Chandra Mitra

92 Views
You may also like:
Waqt
ananya rai parashar
"दोस्त-दोस्ती और पल"
Lohit Tamta
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
मां बाप की दुआओं का असर
Ram Krishan Rastogi
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
मयखाने
Vikas Sharma'Shivaaya'
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
🌺🌺प्रेम की राह पर-41🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो बीत गई।
Taj Mohammad
पिता
pradeep nagarwal
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
ख्वाब
Swami Ganganiya
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संकरण हो गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
माँ
आकाश महेशपुरी
पुत्रवधु
Vikas Sharma'Shivaaya'
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H.
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H.
Loading...