Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Apr 16, 2022 · 1 min read

इशारो ही इशारो से…😊👌

इशारो ही इशारो से पहले हल्की – हल्की बात होती है।

कुछ यूं इस तरह से ही यार इश्क़ की शुरुआत होती है।

नजरे झुकाकर पलके झपकाकर इश्क़-ए-इज़हार करे

तो समझ जाना जनाब वो रात मिलन की रात होती है

©® प्रेमयाद कुमार नवीन
महासमुन्द (छःग)

199 Views
You may also like:
प्रेयसी पुनीता
Mahendra Rai
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
विद्या पर दोहे
Dr. Sunita Singh
चंदा मामा
Dr. Kishan Karigar
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
"अशांत" शेखर
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण
मोतियों की सुनहरी माला
DESH RAJ
जिन्दगी तेरा फलसफा।
Taj Mohammad
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
वह माँ नही हो सकती
Anamika Singh
मां
Dr. Rajeev Jain
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
बगुले ही बगुले बैठे हैं, भैया हंसों के वेश में
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुंदर बाग़
DESH RAJ
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
बदरवा जल्दी आव ना
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी धड़कन जूलियट और तेरा दिल रोमियो हो जाएगा
Krishan Singh
थोड़ी मेहनत और कर लो
Nitu Sah
पुन: विभूषित हो धरती माँ ।
Saraswati Bajpai
पिता
Ray's Gupta
Loading...