Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-393💐

इशारा किया था ये जो समझने में देर लगी,
समझ में जब आया तो दिल-ए-मरहूम लगी,
यह समझ की बात है वो कम समझे या हम,
ज़िक्र किए वो मेरा इसे समझने में देर लगी।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
177 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
*ना जाने कब अब उनसे कुर्बत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कसौटी
कसौटी
Sanjay ' शून्य'
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
नहीं कभी होते अकेले साथ चलती है कायनात
Santosh Khanna (world record holder)
💐प्रेम कौतुक-215💐
💐प्रेम कौतुक-215💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
खुदकुशी नहीं, इंकलाब करो
Shekhar Chandra Mitra
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
तरुण सिंह पवार
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय द्वारा हमारा अभिनंदन : वर्ष 1996*
*ज्ञान मंदिर पुस्तकालय द्वारा हमारा अभिनंदन : वर्ष 1996*
Ravi Prakash
यह जनता है ,सब जानती है
यह जनता है ,सब जानती है
Bodhisatva kastooriya
"बहुत से लोग
*Author प्रणय प्रभात*
कान्हा तेरी नगरी
कान्हा तेरी नगरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
Vivek Pandey
संघर्ष........एक जूनून
संघर्ष........एक जूनून
Neeraj Agarwal
सबके अपने अपने मोहन
सबके अपने अपने मोहन
Shivkumar Bilagrami
पहला प्यार
पहला प्यार
Pratibha Kumari
कभी भ्रम में मत जाना।
कभी भ्रम में मत जाना।
surenderpal vaidya
नव उल्लास होरी में.....!
नव उल्लास होरी में.....!
Awadhesh Kumar Singh
नारी
नारी
Dr Parveen Thakur
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
मित्र दिवस पर आपको, सादर मेरा प्रणाम 🙏
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️सोच पे किसकी पकड़ है..?✍️
✍️सोच पे किसकी पकड़ है..?✍️
'अशांत' शेखर
चेहरे का यह सबसे सुन्दर  लिबास  है
चेहरे का यह सबसे सुन्दर लिबास है
Anil Mishra Prahari
हर एक दिल में
हर एक दिल में
Dr fauzia Naseem shad
कहां पता था
कहां पता था
dks.lhp
चंदा मामा से मिलने गए ,
चंदा मामा से मिलने गए ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
आज तन्हा है हर कोई
आज तन्हा है हर कोई
Anamika Singh
सरहद
सरहद
लक्ष्मी सिंह
कौतूहल एवं जिज्ञासा
कौतूहल एवं जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
Loading...