Sep 10, 2016 · 1 min read

इन सबको ख़ाक कर दो!

नयनों में अश्रुधारा, मन में कुँवर कन्हाई.
इन आँसुओं से हरि ने, यमुना तरल बहाई.
बढ़ता है पाप जब-जब, तब-तब धरा ये रोती;
श्रीकृष्ण जन्म लेते, सबको हृदय बधाई..

असुरों को भेजता नित आतंक पल रहा है.
रह-रह के फूटें ग्रेनेड, हमको ये खल रहा है.
कर बुद्धि को सुदर्शन, इन सबको ख़ाक कर दो;
यह काम कंस का है कश्मीर जल रहा है..

इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

116 Views
You may also like:
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
मुक्तक ( इंतिजार )
N.ksahu0007@writer
नेताओं के घर भी बुलडोजर चल जाए
Dr. Kishan Karigar
प्रणाम : पल्लवी राय जी तथा सीन शीन आलम साहब
Ravi Prakash
इलाहाबाद आयें हैं , इलाहाबाद आये हैं.....अज़ल
लवकुश यादव "अज़ल"
गरीब के हालात
Ram Krishan Rastogi
चांदनी में बैठते हैं।
Taj Mohammad
श्रमिक
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
बहुत कुछ अनकहा-सा रह गया है (कविता संग्रह)
Ravi Prakash
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
पिता की सीख
Anamika Singh
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फास्ट फूड
AMRESH KUMAR VERMA
तपिश
SEEMA SHARMA
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
कविता " बोध "
vishwambhar pandey vyagra
क्लासिफ़ाइड
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
हाल ए इश्क।
Taj Mohammad
'बेदर्दी'
Godambari Negi
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
विश्व पृथ्वी दिवस
Dr Archana Gupta
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
गम आ मिले।
Taj Mohammad
मिसाइल मैन
Anamika Singh
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
Loading...