Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-532💐

इन पयामों की दुनिया बे-वक़्त है क्या कहें,
अभी फ़ुरसत नहीं है दिमाग को क्या कहें,
कभी कोई बेईमानी की ही नहीं अब कैसे हो,
कोई नहीं है दिलमें सिवाए उनके क्या कहें।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”
वक़्त नहीं है

Language: Hindi
1 Like · 130 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
डी. के. निवातिया
हम भूल गए सच में, संस्कृति को
हम भूल गए सच में, संस्कृति को
gurudeenverma198
*पितृदेव (गीत)*
*पितृदेव (गीत)*
Ravi Prakash
पेंशन दे दो,
पेंशन दे दो,
मानक लाल मनु
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
Jo milta hai
Jo milta hai
Sakshi Tripathi
एक किताब सी तू
एक किताब सी तू
Vikram soni
उनका लिखा कलाम सा लगता है।
उनका लिखा कलाम सा लगता है।
Taj Mohammad
कोशिश करो
कोशिश करो
Dr fauzia Naseem shad
सब स्वीकार है
सब स्वीकार है
Saraswati Bajpai
💐प्रेम कौतुक-190💐
💐प्रेम कौतुक-190💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इश्क की पहली शर्त
इश्क की पहली शर्त
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"किताब और कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
कभी
कभी
Ranjana Verma
जय भोलेनाथ ।
जय भोलेनाथ ।
Anil Mishra Prahari
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
दर्द तन्हाई मुहब्बत जो भी हो भरपूर होना चाहिए।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बुलबुला
बुलबुला
मनोज शर्मा
विश्वास किसी पर इतना करो
विश्वास किसी पर इतना करो
नेताम आर सी
तेरी चाहत का कैदी
तेरी चाहत का कैदी
N.ksahu0007@writer
2478.पूर्णिका
2478.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
शिवाजी गुरु स्वामी समर्थ रामदास – भाग-01
Sadhavi Sonarkar
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
आँख अब भरना नहीं है
आँख अब भरना नहीं है
Vinit kumar
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
ध्यान में इक संत डूबा मुस्कुराए
Shivkumar Bilagrami
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
वर्तमान परिवेश और बच्चों का भविष्य
Mahender Singh
पग पग में विश्वास
पग पग में विश्वास
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
बोलते हैं जैसे सारी सृष्टि भगवान चलाते हैं ना वैसे एक पूरा प
Vandna thakur
***
*** " बसंती-क़हर और मेरे सांवरे सजन......! " ***
VEDANTA PATEL
एक तरफ चाचा
एक तरफ चाचा
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...