Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#4 Trending Author
Apr 26, 2022 · 1 min read

इन नजरों के वार से बचना है।

इन नजरों के वार से बचना है।
इश्क के चक्कर में ना पड़ना है।।1।।

बड़ी ही तकलीफ मिलती है।
हमें इश्के असर में ना पड़ना है।।2।।

कुछ दिन का होता ये खेल है।
फिर अलग ही गम में रहना है।।3।।

बिछड़ना ही होता है इश्क में।
यूं तड़प तड़प कर ना जीना है।।4।।

ये दिल्लगी दिल की ना हुई है।
आशिको का बस ये कहना है।।5।।

हमको यूं खुदा ना बदलना है।
हमें कभी ये इश्क ना करना है।।6।।

ताज मोहम्मद
लखनऊ

1 Like · 2 Comments · 69 Views
You may also like:
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
प्रेम
Rashmi Sanjay
मेरे गांव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर:भाग:2
AJAY AMITABH SUMAN
✍️सुर गातो...!✍️
"अशांत" शेखर
खेतों की मेड़ , खेतों का जीवन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता
Kanchan Khanna
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
** यकीन **
Dr. Alpa H. Amin
परिकल्पना
संदीप सागर (चिराग)
कभी अलविदा न कहेना....
Dr. Alpa H. Amin
ग्रीष्म ऋतु भाग ५
Vishnu Prasad 'panchotiya'
विदाई की घड़ी आ गई है,,,
Taj Mohammad
बाबा ब्याह ना देना,,,
Taj Mohammad
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
ऐसे हैं मेरे पापा
Dr Meenu Poonia
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
मेंढक और ऊँट
सूर्यकांत द्विवेदी
जिन्दगी
Anamika Singh
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
If We Are Out Of Any Connecting Language.
Manisha Manjari
बचपन की यादें
Anamika Singh
मैं कौन हूँ
Vikas Sharma'Shivaaya'
परदेश
DESH RAJ
पुण्य स्मरण: 18 जून2008 को मुरादाबाद में आयोजित पारिवारिक समारोह...
Ravi Prakash
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
$दोहे- हरियाली पर
आर.एस. 'प्रीतम'
तुम चाहो तो सारा जहाँ मांग लो.....
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
Loading...