Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2019 · 2 min read

इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)

इन्द्रवज्रा छंद / उपेन्द्रवज्रा छंद / उपजाति छंद

“शिवेंद्रवज्रा स्तुति”

परहित कर विषपान, महादेव जग के बने।
सुर नर मुनि गा गान, चरण वंदना नित करें।।

माथ नवा जयकार, मधुर स्तोत्र गा जो करें।
भरें सदा भंडार, औघड़ दानी कर कृपा।।

कैलाश वासी त्रिपुरादि नाशी।
संसार शासी तव धाम काशी।
नन्दी सवारी विष कंठ धारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।१।।

ज्यों पूर्णमासी तव सौम्य हाँसी।
जो हैं विलासी उन से उदासी।
भार्या तुम्हारी गिरिजा दुलारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।२।।

जो भक्त सेवे फल पुष्प देवे।
वाँ की तु देवे भव-नाव खेवे।
दिव्यावतारी भव बाध टारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।३।।

धूनी जगावे जल को चढ़ावे।
जो भक्त ध्यावे उन को तु भावे।
आँखें अँगारी गल सर्प धारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।४।।

माथा नवाते तुझको रिझाते।
जो धाम आते उन को सुहाते।
जो हैं दुखारी उनके सुखारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।५।।

मैं हूँ विकारी तु विराग धारी।
मैं व्याभिचारी तुम काम मारी।
मैं जन्मधारी तु स्वयं प्रसारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।६।।

द्वारे तिहारे दुखिया पुकारे।
सन्ताप सारे हर लो हमारे।
झोली उन्हारी भरते उदारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।७।।

सृष्टी नियंता सुत एकदंता।
शोभा बखंता ऋषि साधु संता।
तु अर्ध नारी डमरू मदारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।८।।

जा की उजारी जग ने दुआरी।
वा की निखारी तुमने अटारी।
कृपा तिहारी उन पे तु डारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।९।।

पुकार मोरी सुन ओ अघोरी।
हे भंगखोरी भर दो तिजोरी।
माँगे भिखारी रख आस भारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।।१०।।

भभूत अंगा तव भाल गंगा।
गणादि संगा रहते मलंगा।
श्मशान चारी सुर-काज सारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।।११।।

नवाय माथा रचुँ दिव्य गाथा।
महेश नाथा रख सीस हाथा।
त्रिनेत्र थारी महिमा अपारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।।१२।।

करके तांडव नृत्य, प्रलय जग की शिव करते।
विपदाएँ भव-ताप, भक्त जन का भी हरते।
देवों के भी देव, सदा रीझो थोड़े में।
करो हृदय नित वास, शैलजा सँग जोड़े में।
रच “शिवेंद्रवज्रा” रखे, शिव चरणों में ‘बासु’ कवि।
जो गावें उनकी रहे, नित महेश-चित में छवि।।

(छंद १ से ७ इंद्र वज्रा में, ८ से १० उपजाति में और ११ व १२ उपेंद्र वज्रा में।

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
इन्द्रवज्रा छंद विधान –

“ताता जगेगा” यदि सूत्र राचो।
तो ‘इन्द्रवज्रा’ शुभ छंद पाओ।

“ताता जगेगा” = तगण, तगण, जगण, गुरु, गुरु
221 221 121 22
**************
उपेन्द्रवज्रा छंद विधान –

“जता जगेगा” यदि सूत्र राचो।
‘उपेन्द्रवज्रा’ तब छंद पाओ।

“जता जगेगा” = जगण, तगण, जगण, गुरु, गुरु
121 221 121 22
**************
उपजाति छंद विधान –

उपेंद्रवज्रा अरु इंद्रवज्रा।
दोनों मिले तो ‘उपजाति’ छंदा।

चार चरणों के छंद में कोई चरण इन्द्रवज्रा का हो और कोई उपेंद्र वज्रा का तो वह ‘उपजाति’ छंद के अंतर्गत आता है।
**************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’
तिनसुकिया

2323 Views
You may also like:
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
💐संसारे कः अपि स्व न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*सीता जी : सात दोहे*
Ravi Prakash
फिर क्युं कहते हैं लोग
Seema 'Tu hai na'
प्रश्न
विजय कुमार 'विजय'
!! लक्ष्य की उड़ान !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
क्यों करूँ नफरत मैं इस अंधेरी रात से।
Manisha Manjari
"ललकारती चीख"
Dr Meenu Poonia
प्यारे गुलनार लाये है
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वचन मांग लो, मौन न ओढ़ो
Shiva Awasthi
हम जो तुम किसी से ना कह सको वो कहानी...
J_Kay Chhonkar
परित्यक्ता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मैं डरती हूं।
Dr.sima
नीला अम्बर नील सरोवर
डॉ. शिव लहरी
शेर
Rajiv Vishal
मित्र मिलन
जगदीश लववंशी
स्वंग का डर
Sushil chauhan
Karoge kadar khudki tab 🙏
Nupur Pathak
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
✍️कभी मिटे ना पाँव के वजूद
'अशांत' शेखर
■ नैसर्गिक न्याय
*Author प्रणय प्रभात*
देश हे अपना
Swami Ganganiya
लगइलू आग पानी में ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
एक बे सहारा वृद्ध स्त्री की जीवन व्यथा।
Taj Mohammad
बुद्धत्व से बुद्ध है ।
Buddha Prakash
दिल की चाहत
कवि दीपक बवेजा
तेरा बस
Dr fauzia Naseem shad
अति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हार कर भी जो न हारे
AMRESH KUMAR VERMA
नायक
Shekhar Chandra Mitra
Loading...