Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)

इन्द्रवज्रा छंद / उपेन्द्रवज्रा छंद / उपजाति छंद

“शिवेंद्रवज्रा स्तुति”

परहित कर विषपान, महादेव जग के बने।
सुर नर मुनि गा गान, चरण वंदना नित करें।।

माथ नवा जयकार, मधुर स्तोत्र गा जो करें।
भरें सदा भंडार, औघड़ दानी कर कृपा।।

कैलाश वासी त्रिपुरादि नाशी।
संसार शासी तव धाम काशी।
नन्दी सवारी विष कंठ धारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।१।।

ज्यों पूर्णमासी तव सौम्य हाँसी।
जो हैं विलासी उन से उदासी।
भार्या तुम्हारी गिरिजा दुलारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।२।।

जो भक्त सेवे फल पुष्प देवे।
वाँ की तु देवे भव-नाव खेवे।
दिव्यावतारी भव बाध टारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।३।।

धूनी जगावे जल को चढ़ावे।
जो भक्त ध्यावे उन को तु भावे।
आँखें अँगारी गल सर्प धारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।४।।

माथा नवाते तुझको रिझाते।
जो धाम आते उन को सुहाते।
जो हैं दुखारी उनके सुखारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।५।।

मैं हूँ विकारी तु विराग धारी।
मैं व्याभिचारी तुम काम मारी।
मैं जन्मधारी तु स्वयं प्रसारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।६।।

द्वारे तिहारे दुखिया पुकारे।
सन्ताप सारे हर लो हमारे।
झोली उन्हारी भरते उदारी।
कल्याणकारी शिव दुःख हारी।।७।।

सृष्टी नियंता सुत एकदंता।
शोभा बखंता ऋषि साधु संता।
तु अर्ध नारी डमरू मदारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।८।।

जा की उजारी जग ने दुआरी।
वा की निखारी तुमने अटारी।
कृपा तिहारी उन पे तु डारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।९।।

पुकार मोरी सुन ओ अघोरी।
हे भंगखोरी भर दो तिजोरी।
माँगे भिखारी रख आस भारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।।१०।।

भभूत अंगा तव भाल गंगा।
गणादि संगा रहते मलंगा।
श्मशान चारी सुर-काज सारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।।११।।

नवाय माथा रचुँ दिव्य गाथा।
महेश नाथा रख सीस हाथा।
त्रिनेत्र थारी महिमा अपारी।
पिनाक धारी शिव दुःख हारी।।१२।।

करके तांडव नृत्य, प्रलय जग की शिव करते।
विपदाएँ भव-ताप, भक्त जन का भी हरते।
देवों के भी देव, सदा रीझो थोड़े में।
करो हृदय नित वास, शैलजा सँग जोड़े में।
रच “शिवेंद्रवज्रा” रखे, शिव चरणों में ‘बासु’ कवि।
जो गावें उनकी रहे, नित महेश-चित में छवि।।

(छंद १ से ७ इंद्र वज्रा में, ८ से १० उपजाति में और ११ व १२ उपेंद्र वज्रा में।

◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
इन्द्रवज्रा छंद विधान –

“ताता जगेगा” यदि सूत्र राचो।
तो ‘इन्द्रवज्रा’ शुभ छंद पाओ।

“ताता जगेगा” = तगण, तगण, जगण, गुरु, गुरु
221 221 121 22
**************
उपेन्द्रवज्रा छंद विधान –

“जता जगेगा” यदि सूत्र राचो।
‘उपेन्द्रवज्रा’ तब छंद पाओ।

“जता जगेगा” = जगण, तगण, जगण, गुरु, गुरु
121 221 121 22
**************
उपजाति छंद विधान –

उपेंद्रवज्रा अरु इंद्रवज्रा।
दोनों मिले तो ‘उपजाति’ छंदा।

चार चरणों के छंद में कोई चरण इन्द्रवज्रा का हो और कोई उपेंद्र वज्रा का तो वह ‘उपजाति’ छंद के अंतर्गत आता है।
**************

बासुदेव अग्रवाल ‘नमन’
तिनसुकिया

1626 Views
You may also like:
If we could be together again...
Abhineet Mittal
पर्यावरण संरक्षण
Manu Vashistha
" जीवित जानवर "
Dr Meenu Poonia
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
सोना
Vikas Sharma'Shivaaya'
तजर्रुद (विरक्ति)
Shyam Sundar Subramanian
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
चले आओ तुम्हारी ही कमी है।
सत्य कुमार प्रेमी
तुम थे पास फकत कुछ वक्त के लिए।
Taj Mohammad
बारिश हमसे रूढ़ गई
Dr. Alpa H. Amin
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वार्तालाप….
Piyush Goel
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाबा अब जल्दी से तुम लेने आओ !
Taj Mohammad
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
कविराज
Buddha Prakash
दुलहिन परिक्रमा
मनोज कर्ण
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
✍️कलम और चमच✍️
"अशांत" शेखर
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
होली
AMRESH KUMAR VERMA
आओ अब लौट चलें वह देश ..।
Buddha Prakash
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
Loading...