Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

इन्तजार

ग़लती हो गई,
ताउम्र निकल गई,
नया ज़माना ,जो
आने को था, बस
इन्तज़ार करते रहे,
अक़्ल , और, हौसला,
हुआ ही नही,
ललकारने का,अपने
घर,और, बाहर को ।
बाबा की लाठी,
अम्माँ के ऑंसू,
दीदिया का पीहर,
मुनिया की शादी,
गॉँव की शोहरत
की बर्बादी ,
नाच जाते थे,
एक साथ ही,
आँखों के सामने ।
क़दम ,लड़खड़ा जाते
थे,देहरी से बाहर,
रखने के पहले ही ।
किसने और कब
करवट ली,
पता नही चला,
आँखों का पानी,
खारा,सागर का है,
गागर से नाता
ही क्यों रखना !
सौदा, समझौता का
उम्दा,सरे बाज़ार है,
जंगल और जंजाल ,
रिश्तों के,दिल के,
बिना तौल- मोल के,
नये ज़माने में,
अब नहीं बँधना !
हवा मे ,पानी में,
घुला है ज़हर ,
हल्का ,हल्का सा,
असर उम्र की
शाम में ही,
रंगत लाएगा,
अभी मौसम बस
इन्तज़ार का है !

डा॰ नरेन्द्र कुमार तिवारी ।

18 Views
You may also like:
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
पिता
Neha Sharma
इंतजार
Anamika Singh
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
बोझ
आकांक्षा राय
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
मन
शेख़ जाफ़र खान
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...