Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

इनवाइट कैंसिल

चार दिनों के लिए
चूल्हे नहीं
जल पाएगी !
आज
दोपहर का
भोजन है,
बासी-चबासी !
ऊहापोह में हूँ ,
आपको खाने को
बुलाऊँ या….

2 Likes · 135 Views
You may also like:
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️मेरी शख़्सियत✍️
'अशांत' शेखर
" मेरा वतन "
Dr Meenu Poonia
इंतजार
Anamika Singh
बस तू चाहिए
Harshvardhan "आवारा"
मुट्ठी में ख्वाबों को दबा रखा है।
Taj Mohammad
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
✍️सब खुदा हो गये✍️
'अशांत' शेखर
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
इश्क में बेचैनियाँ बेताबियाँ बहुत हैं।
Taj Mohammad
शहर को क्या हुआ
Anamika Singh
शून्य से अनन्त
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
दिल बंजर कर दिया है।
Taj Mohammad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बुढ़ापे में जीने के गुरु मंत्र
Ram Krishan Rastogi
इसीलिए मेरे दुश्मन बहुत है
gurudeenverma198
उम्मीद की रोशनी में।
Taj Mohammad
सजल : तिरंगा भारत का
Sushila Joshi
शहीद की आत्मा
Anamika Singh
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
पुस्तक समीक्षा "छायावाद के गीति-काव्य"
दुष्यन्त 'बाबा'
करुणा के बादल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं समंदर के उस पार था
Dalveer Singh
धर्म में पंडे, राजनीति में गुंडे जनता को भरमावें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...