Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#15 Trending Author
Apr 8, 2022 · 1 min read

इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से

इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से, ये रास्ता अनजान होता हैं…
कसम से जो एक बार निकल पड़ा इन रास्तों पर, वापसी आने का फिर नाम नहीं होता है….
– कृष्ण सिंह

3 Likes · 125 Views
You may also like:
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
# बोरे बासी दिवस /मजदूर दिवस....
Chinta netam " मन "
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
यही है मेरा ख्वाब मेरी मंजिल
gurudeenverma198
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
मेरी ये जां।
Taj Mohammad
हिन्दी थिएटर के प्रमुख हस्ताक्षर श्री पंकज एस. दयाल जी...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
शबनम।
Taj Mohammad
वह मुझे याद आती रही रात भर।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
जो भी संजोग बने संभालो खुद को....
Dr. Alpa H. Amin
पिता हैं नाथ.....
Dr. Alpa H. Amin
आदरणीय अन्ना हजारे जी दिल्ली में जमूरा छोड़ गए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
चाय की चुस्की
श्री रमण
जेब में सरकार लिए फिरते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
नारियां
AMRESH KUMAR VERMA
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दंगा पीड़ित
Shyam Pandey
माटी के पुतले
AMRESH KUMAR VERMA
नसीब
DESH RAJ
मां शारदा
AMRESH KUMAR VERMA
शहरों के हालात
Ram Krishan Rastogi
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
ये जिंदगी ना हंस रही है।
Taj Mohammad
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
Loading...