Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2023 · 1 min read

इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।

रोशनी आबाद रहने दो, ये घरों की देहलीज पर तुम,
ना जाने, कौन भटकता मुसाफ़िर, कब गुजर जाए।

दिया बन कर मिलो, गर दिखे अंधेरा, किसी मकां में,
क्या ख़बर, तेरे आंगन कभी, सियह-बख़्ती उतर आए।

कुछ अज़्मत-ए-इंसानियत भी रख, अना के पहलू में,
तजुरबा कहता है, कहीं तुझे मुहब्बत ही ना हो जाए।

इन्तहा पसन्द होना, इक काफ़िर का, दहशत गर्द है,
तमाम उम्र, मजार पे गुज़ार दे, गर उसे इश्क़ छू जाए।

ख़ुद-आगही है ही कितनी, कितने बरस गुजरे तुम पर,
तमाम अना से अकड़े सर, पहरो सजदो में गिरते पाए।

अख़लाक पैदा कर, खुलूस की बुआई कर, सींच इसे,
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।

Tag: Humanity, Life, Love
1 Like · 103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Monika Verma
View all
You may also like:
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
चोर उचक्के बेईमान सब, सेवा करने आए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिव्य दृष्टि बाधित
दिव्य दृष्टि बाधित
Neeraj Agarwal
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/185.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
दो दिन की जिंदगी है अपना बना ले कोई।
Phool gufran
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
कई आबादियों में से कोई आबाद होता है।
Sanjay ' शून्य'
*शादी से है जिंदगी, शादी से घर-द्वार (कुंडलिया)*
*शादी से है जिंदगी, शादी से घर-द्वार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
युद्ध नहीं अब शांति चाहिए
लक्ष्मी सिंह
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
एक ही धरोहर के रूप - संविधान
Desert fellow Rakesh
कुछ लिखूँ ....!!!
कुछ लिखूँ ....!!!
Kanchan Khanna
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
मनोज कर्ण
■ निकला नतीजा। फिर न कोई चाचा, न कोई भतीजा।
■ निकला नतीजा। फिर न कोई चाचा, न कोई भतीजा।
*Author प्रणय प्रभात*
" ढले न यह मुस्कान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
-अपनो के घाव -
-अपनो के घाव -
bharat gehlot
सामाजिक रिवाज
सामाजिक रिवाज
Anil "Aadarsh"
भजन - माॅं नर्मदा का
भजन - माॅं नर्मदा का
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
शिव स्तुति
शिव स्तुति
Shivkumar Bilagrami
है कौन वो राजकुमार!
है कौन वो राजकुमार!
Shilpi Singh
"लाचार मैं या गुब्बारे वाला"
संजय कुमार संजू
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक मुक्तक
एक मुक्तक
सतीश तिवारी 'सरस'
राह हमारे विद्यालय की
राह हमारे विद्यालय की
bhandari lokesh
"चाहत का घर"
Dr. Kishan tandon kranti
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
सुखी को खोजन में जग गुमया, इस जग मे अनिल सुखी मिला नहीं पाये
Anil chobisa
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
बात न बनती युद्ध से, होता बस संहार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
शिव हैं शोभायमान
शिव हैं शोभायमान
surenderpal vaidya
तुम्हारे जाने के बाद...
तुम्हारे जाने के बाद...
Prem Farrukhabadi
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
gurudeenverma198
Loading...