Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jun 2022 · 1 min read

इंतजार

आजकल सच्चाई दबकर रह जाती है
झूठ के पुलिंदो के आगे
बरसो वर्ष लग जाते है
सच को सच साबित करने के लिए
इंतजार है अनामिका उस दिन का
जब सच्चाई निकल जाएँ
झूठ की बहस के आगे।

~अनामिका

8 Likes · 8 Comments · 246 Views
You may also like:
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
If we could be together again...
Abhineet Mittal
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
# पिता ...
Chinta netam " मन "
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
उचित मान सम्मान के हक़दार हैं बुज़ुर्ग
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल राजू
Anamika Singh
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
पिता
Manisha Manjari
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
Anamika Singh
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
Loading...