Jan 17, 2022 · 1 min read

आज़ाद गज़ल

मेरी बेबह्र गज़लों पे वाह वाह करता है
बस यूँ वो मेरी जिंदगी तवाह करता है ।
मैं फूला नहीं समाता उसकी तारीफों से
और इस तरहा वो मुझे गुमराह करता है।
ज़िंदा हूँ मैं ज़ुर्म के खिलाफ़ लिखने को
तो सोंचिये मेरी कितनी परवाह करता है ।
जब कभी बहकने लगता हूँ हुस्नोईश्क़ में
मुझें आईना दिखा कर आगाह करता है ।
याद रखता है अपने दुआओं में हर दिन
कितनी खुबसूरती से वो गुनाह करता है ।
जानता हूँ अजय तुझे मैं अच्छी तरहा से
बड़ी शिद्दत से शोहरत की चाह करता है।
-अजय प्रसाद

113 Views
You may also like:
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
हाइकु__ पिता
Manu Vashistha
जमीं से आसमान तक।
Taj Mohammad
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
लौट आई जिंदगी बेटी बनकर!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
आपस में तुम मिलकर रहना
Krishan Singh
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
पिता का दर्द
Nitu Sah
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
पुस्तक समीक्षा- बुंदेलखंड के आधुनिक युग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH 9A
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
The Magical Darkness
Manisha Manjari
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
पिता
Manisha Manjari
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
ग़ज़ल
Anis Shah
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
**दोस्ती हैं अजूबा**
Dr. Alpa H.
अपराधी कौन
Manu Vashistha
मनोमंथन
Dr. Alpa H.
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...