Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-481💐

आहाँ हम तो पागल थे,कहा,इलाज़ कराइएगा,
बे-एतिबार है हमें,अपना कुछ एतिबार कराइएगा,
कैसे जानते हैं कैसे,कब,कहाँ मिले हमसे आप,
आप ही पूँछे अब,नहीं तो ज़िंदगी भर घबराइएगा।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
Tag: Hindi Quotes, Quote Writer
6 Views
You may also like:
चांद का पहरा
चांद का पहरा
Surinder blackpen
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
Abhishek Pandey Abhi
उलझनें
उलझनें
Shashi kala vyas
#drarunkumarshastriblogger
#drarunkumarshastriblogger
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गजल
गजल
जगदीश शर्मा सहज
कलयुग का परिचय
कलयुग का परिचय
Nishant prakhar
सौ बात की एक
सौ बात की एक
Dr.sima
कब तक इंतजार तेरा हम करते
कब तक इंतजार तेरा हम करते
gurudeenverma198
ज़िंदगी अपने सफर की मंजिल चाहती है।
ज़िंदगी अपने सफर की मंजिल चाहती है।
Taj Mohammad
सोचिएगा ज़रूर
सोचिएगा ज़रूर
Shekhar Chandra Mitra
बाल मनोविज्ञान
बाल मनोविज्ञान
Pakhi Jain
अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर आते हैं।
अपने नाम का भी एक पन्ना, ज़िन्दगी की सौग़ात कर...
Manisha Manjari
याद तो बहुत करते हैं लेकिन जरूरत पड़ने पर।
याद तो बहुत करते हैं लेकिन जरूरत पड़ने पर।
Gouri tiwari
अज्ञानता
अज्ञानता
Shyam Sundar Subramanian
*लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977*
*लोकसभा की दर्शक-दीर्घा में एक दिन: 8 जुलाई 1977*
Ravi Prakash
साहस का सच
साहस का सच
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अज्ञात के प्रति-2
अज्ञात के प्रति-2
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीवन का हर वो पहलु सरल है
जीवन का हर वो पहलु सरल है
'अशांत' शेखर
No one in this world can break your confidence or heart unle
No one in this world can break your confidence or...
Nav Lekhika
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
शेयर मार्केट में पैसा कैसे डूबता है ?
Rakesh Bahanwal
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बाल दिवस पर विशेष
बाल दिवस पर विशेष
Vindhya Prakash Mishra
शुभ करवा चौथ
शुभ करवा चौथ
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जब से देखी है हमने उसकी वीरान सी आंखें.......
जब से देखी है हमने उसकी वीरान सी आंखें.......
कवि दीपक बवेजा
आप से ज़िंदगी
आप से ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
विद्या:कविता
विद्या:कविता
rekha mohan
■ लघुकथा
■ लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
बदल गए
बदल गए
विनोद सिल्ला
स्वच्छता
स्वच्छता
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
आपकी कशिश
आपकी कशिश
Surya Barman
Loading...