Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2021 · 1 min read

करे तमाशा जिन्दगी, होना नहीं निराश।
ऐसे में धीरज धरो ,रखों आस विस्वास।। १

आस और विस्वास को, हरदम रखना पास।
जिन्दा रहता है वही,जिसमें होती आस।। २

कच्ची मिट्टी का बना, सच्चे झूठे आस।
ढ़ह जायेगा एक दिन, होना नहीं उदास।। ३

टूट गये सपने सभी, छूट गई है आस।
आंखों से गंगा बहे, फिर भी मन में प्यास।। ४

हिम्मत साहस जोश से,जला आस के दीप।
किस्मत बदलेगी तभी, हाथ लगेगी सीप।।५
-लक्ष्मी सिंह
नई दिल्ली

Language: Hindi
Tag: दोहा
8 Likes · 10 Comments · 325 Views
You may also like:
✍️लकीरे
'अशांत' शेखर
इम्तिहान की घड़ी
Aditya Raj
बेरोजगार आशिक
Shekhar Chandra Mitra
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अनोखा गुलाब (“माँ भारती ”)
DESH RAJ
तुम ही ये बताओ
Mahendra Rai
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
कारस्तानी
Alok Saxena
स्वर्ग नरक का फेर
Dr Meenu Poonia
बदला नहीं लेना किसीसे, बदल के हमको दिखाना है।
Uday kumar
हे मनुष्य!
विजय कुमार 'विजय'
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*सदा खामोश होता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
पर्यावरण
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
अपनी जिंदगी
Ashok Sundesha
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
“ हम महान बनने की चाहत में लोगों से दूर...
DrLakshman Jha Parimal
बचपन
Anamika Singh
सुन मेरे बच्चे !............
sangeeta beniwal
जय-जय भारत!
अनिल मिश्र
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
शैशव की लयबद्ध तरंगे
Rashmi Sanjay
मंजिल की धुन
Seema 'Tu hai na'
नुमाइशों का दौर है।
Taj Mohammad
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
'दीपक-चोर'?
पंकज कुमार कर्ण
गीत
शेख़ जाफ़र खान
वनवासी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
प्रकृति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...