Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2023 · 1 min read

*आस्था*

आस्था
अगर है तुम्हारे अंदर आस्था,
तो नहीं रोक सकता तुम्हारा कोई रास्ता।
बदल सकते हो चाहो तो जीवन को,
अगर रखते हो इसके प्रति वास्ता।।१।।
नाम है आस्था का दूसरा विश्वास।
नहीं छोड़नी चाहिए तुम्हें अपनी आस।
खोल सकते हो प्रत्येक दरवाजा बन्द।
अगर इसके प्रति आस्था है तुम्हारी बुलन्द।।२।।
आस्था से हो सकता है तुम्हारा नाम।
आस्था से होते हैं बड़े-बड़े काम।
आस्था से हो सकता है तुम्हारा उद्धार।
खुल सकता है आस्था से मुक्ति का द्वार।।३।।
बदल सकते हो जिंदगी का कोई भी फैसला।
अगर है तुम्हारे अन्दर आस्था का हौसला।
अगर करना है तुम्हें कोई काम तो न छोड़ो आशा।
नहीं कभी भी आएगी तुम्हारे जीवन में निराशा।।४।।
मन में रखो विश्वास और कर्तव्य निभाओ।
कार्य को करके आस्था के बल पर दिखलाओ।
कर नहीं सकते तुम इसके बिना काम।
अगर तुम्हारे अन्दर ना है, आस्था का नाम।।५।।
अगर जिंदगी को चाहते हो करना तुम आसान।
फिर क्यों नहीं करते, प्रत्येक कार्य का सम्मान?
करो कार्य का सम्मान मन में धीरज रख कर।
नहीं कर सकते कार्य तुम आस्था को तजकर।।६।।
अगर है कुछ करने का जुनून तुम्हारे अन्दर।
रोक नहीं सकता तुम्हें कोई ताल या समन्दर।
कार्य करो मन से और ना मानो हार।
अगर आस्था है मन में तो निश्चित होगे पार।।७।।
सुनाता है दुष्यन्त कुमार तुमको यह दास्तां।
अगर है मन में आस्था तो बंद द्वार में भी है रास्ता।।

Language: Hindi
95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Follow our official WhatsApp Channel to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
तुमसे मैं एक बात कहूँ
तुमसे मैं एक बात कहूँ
gurudeenverma198
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
कम आ रहे हो ख़़्वाबों में आजकल,
Shreedhar
तमन्ना अनूप
तमन्ना अनूप
Dr.sima
या' रब तेरे जहान के
या' रब तेरे जहान के
Dr fauzia Naseem shad
💐सुरक्षा चक्र💐
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गाँव की याद
गाँव की याद
Rajdeep Singh Inda
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
मेरा , सच
मेरा , सच
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रण
रण
सुशील मिश्रा (क्षितिज राज)
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
तुम मुझे देखकर मुस्कुराने लगे
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
छोटा-सा परिवार
छोटा-सा परिवार
डॉ.श्री रमण 'श्रीपद्'
चाय-समौसा (हास्य)
चाय-समौसा (हास्य)
दुष्यन्त 'बाबा'
ये आंसू
ये आंसू
Shekhar Chandra Mitra
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
तेरी महबूबा बनना है मुझे
तेरी महबूबा बनना है मुझे
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सागर से दूरी धरो,
सागर से दूरी धरो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*महक आई चुनावों की, तो दलबदलू लगे आने (मुक्तक)*
*महक आई चुनावों की, तो दलबदलू लगे आने (मुक्तक)*
Ravi Prakash
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kamal Deependra Singh
My Lord
My Lord
Kanchan Khanna
■ दोहा-
■ दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
मेरा विज्ञान सफर
मेरा विज्ञान सफर
Ms.Ankit Halke jha
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
मै और तुम ( हास्य व्यंग )
Ram Krishan Rastogi
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
कोई उपहास उड़ाए ...उड़ाने दो
ruby kumari
'तुम्हारे बिना'
'तुम्हारे बिना'
Rashmi Sanjay
श्री श्री रवि शंकर जी
श्री श्री रवि शंकर जी
Satish Srijan
Writing Challenge- बाल (Hair)
Writing Challenge- बाल (Hair)
Sahityapedia
निगाहें
निगाहें
Shyam Sundar Subramanian
Loading...