Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2022 · 1 min read

*आशीष भर लाती बुआऍं हैं (गीतिका)*

*आशीष भर लाती बुआऍं हैं (गीतिका)*
———————————————-
(1)
भतीजों को नजर-भर देखने आती बुआऍं हैं
हमेशा साथ में आशीष भर लाती बुआऍं हैं
(2)
पिता-बाबा के बीते संग इनको याद किस्से हैं
इसी से संस्कारों को निभा पाती बुआऍं हैं
(3)
पिता-बाबा की आँगन में पली हैं यह मधुर कलिका
महक से मैके की ससुराल महकाती बुआऍं हैं
(4)
पुराना छिड़ गया किस्सा तो फिर किस्से नहीं थमते
हजारों याद बचपन वाली दोहराती बुआऍं हैं
(5)
ढली संयम के सॉंचे में दादी और बाबा के
पुराने दौर के इतिहास की थाती बुआऍं हैं
———————+———
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा
रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

20 Views
You may also like:
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
✍️दो पंक्तिया✍️
'अशांत' शेखर
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
जागीर
सूर्यकांत द्विवेदी
वार्तालाप….
Piyush Goel
फर्क पिज्जा में औ'र निवाले में।
सत्य कुमार प्रेमी
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
मां तो मां होती है ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
दिल तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
कल भी होंगे हम तो अकेले
gurudeenverma198
ज्ञान की बात
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गाऊँ तेरी महिमा का गान (हरिशयन एकादशी विशेष)
श्री रमण 'श्रीपद्'
पुनर्पाठ : एक वर्षगाँठ
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
My eyes look for you.
Taj Mohammad
शामिल इबादतो में
Dr fauzia Naseem shad
*** चल अकेला.......!!! ***
VEDANTA PATEL
चाँद
विजय कुमार अग्रवाल
हिरण
Buddha Prakash
वो पत्थर
shabina. Naaz
महान गुरु श्री रामकृष्ण परमहंस की काव्यमय जीवनी (पुस्तक-समीक्षा)
Ravi Prakash
रामकथा की अविरल धारा श्री राधे श्याम द्विवेदी रामायणी जी...
Ravi Prakash
ब्राउनी (पिटबुल डॉग) की पीड़ा
ओनिका सेतिया 'अनु '
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...