Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

*उम्मीद पर टिकी है दुनिया *

फिज़ाओं में खुशबुएं भी हैं घुली घुली,
केवल जहर ही नहीं हवाओं की उड़न में।
आओ छुअन में एहसास करें जरा।।
*******
दुनिया में प्रेम और नेकी भी है रची बसी,
केवल बदी और घृणा नहीं इसके चलन में।
आओ मिल जुलकर एहसास करें जरा।।
*******
दिलों में मिठास औरअपनत्व भी है समाया,
सिर्फ कटुता व बेरुखी नहीं इसकी घुलन में।
आओ हृदय में कुछ एहसास करें जरा।।
*******
परमेश्वर है साथ तो दुनिया में कहां हैं गम,
साथ है उसका तो जग में खुशियाँ न हैं कम।
*******
उसके अस्तित्व का कुछ अहसास करें जरा।
दाता की करुणा पर कुछ विश्वास करें जरा।
सृष्टि के संचालक का आभास करें जरा।
विश्व को सुंदर बनाने का सुप्रयास करें जरा।
*******

—रंजना माथुर दिनांक 25/08/2017
(मेरी स्व रचित व मौलिक रचना )
©

276 Views
You may also like:
गुमनाम मुहब्बत का आशिक
श्री रमण 'श्रीपद्'
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
पिता
Dr. Kishan Karigar
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
मिठाई मेहमानों को मुबारक।
Buddha Prakash
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
धन्य है पिता
Anil Kumar
आत्मनिर्भर
मनोज कर्ण
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...