” आशा दीप “

संध्या ऊषा का सम्बल खोकर ,
नीरवता में डूब जाती ,
फ़िर भी जग हेतु नक्षत्र के ,
आशा दीप जलाकर जाती ,
हमें बताती ,निशा यदि है ,
दिवस भी तेरा दूर नहीं ,
आस न छोडना है आने वाला ,
स्वर्णिम आभा लिये सवेरा ||
…निधि …

1 Like · 139 Views
You may also like:
तेरे संग...
Dr. Alpa H.
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
आकार ले रही हूं।
Taj Mohammad
【10】 ** खिलौने बच्चों का संसार **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Angad tiwari
Angad Tiwari
♡ चाय की तलब ♡
Dr. Alpa H.
अरविंद सवैया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
गाँव के रंग में
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नई तकदीर
मनोज कर्ण
महँगाई
आकाश महेशपुरी
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
# मां ...
Chinta netam मन
"ममता" (तीन कुण्डलिया छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उस दिन
Alok Saxena
बहन का जन्मदिन
Khushboo Khatoon
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
महेनतकश इंसान हैं ... नहीं कोई मज़दूर....
Dr. Alpa H.
Crumbling Wall
Manisha Manjari
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
शिव स्तुति
अभिनव मिश्र अदम्य
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
ये चिड़िया
Anamika Singh
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
Shankar J aanjna
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
Loading...