Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

आशा कल की

स्वर्णिम आभा नभ की ,
साहस साँसों में भरती ।
आते कल की आशा में,
निशि नित सबेरा गढ़ती ।
…विवेक दुबे”निश्चल”…

1 Like · 233 Views
You may also like:
अधजल गगरी छलकत जाए
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*आजादी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ग्रहण
ओनिका सेतिया 'अनु '
पिता
dks.lhp
खुशनुमा ही रहे, जिंदगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
मौसम मौसम बदल गया
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
आओ हम याद करे
Anamika Singh
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
पुस्तक समीक्षा "छायावाद के गीति-काव्य"
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
'अशांत' शेखर
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
इश्क का गम।
Taj Mohammad
घर-घर लहराये तिरंगा
Anamika Singh
जब तुमने सहर्ष स्वीकारा है!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
घर घर तिरंगा अब फहराना है
Ram Krishan Rastogi
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
पिता का दर्द
Nitu Sah
A pandemic 'Corona'
Buddha Prakash
जीवन संगीत
Shyam Sundar Subramanian
“ खाइतो छी आ गुंगुअवैत छी “
DrLakshman Jha Parimal
मैं तुम्हें पढ़ के
Dr fauzia Naseem shad
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
योग है अनमोल साधना
Anamika Singh
न्याय सम्राट अशोक का
AJAY AMITABH SUMAN
बेटी का संदेश
Anamika Singh
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती हैं
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरे देश का तिरंगा
VINOD KUMAR CHAUHAN
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
क्या सोचता हूँ मैं भी
gurudeenverma198
जीवन
vikash Kumar Nidan
Loading...