Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jul 2016 · 1 min read

आव्हान

*कुंडलिनी छंद*
हे शिक्षक! करना तुम्हें, सृजित राष्ट्र -नव -तंत्र।
हर बालक में फूक दो, राष्ट्र भक्ति का मंत्र।
राष्ट्र – भक्ति का मंत्र, बना दे उनको तारक।
लिख कर उन्नत भाग्य, बनो प्रेरक हे शिक्षक!
अंकित शर्मा’ इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: कविता
2 Comments · 429 Views
You may also like:
छठ पर्व
Varun Singh Gautam
*एनी बेसेंट (गीत)*
Ravi Prakash
अपना ख़याल तुम रखना
Shivkumar Bilagrami
"चित्रांश"
पंकज कुमार कर्ण
तेरी सूरत
DESH RAJ
तन्हाँ-तन्हाँ सफ़र
VINOD KUMAR CHAUHAN
हिंदी दोहे- न्याय
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बड़ी आरज़ू होती है ......................
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
तुमको पाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
खंडहर में अब खोज रहे ।
Buddha Prakash
मित्र दिवस पर आपको, प्यार भरा प्रणाम
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वक्त
Annu Gurjar
सीधे सीधे कहते हैं।
Taj Mohammad
गज़ल सी कविता
Kanchan Khanna
लैला-मजनूं
Shekhar Chandra Mitra
अपना देश
shabina. Naaz
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
सच्चाई का मार्ग
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
Anis Shah
आओ मिलकर वृक्ष लगाएँ
Utsav Kumar Aarya
पिता
pradeep nagarwal
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
✍️किसान के बैल की संवेदना✍️
'अशांत' शेखर
मिलखा सिंह दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विश्व जनसंख्या दिवस
Ram Krishan Rastogi
कवि और चितेरा
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
जीवन की तलाश
Taran Singh Verma
Loading...