Sep 13, 2016 · 1 min read

आवेष्

कुछ दिन पहले जेल में कुछ बंदियो से मिलना हुआ
उनकी आखों की मार्मिक पीड़ा लिखने की कोशिश इस गीत के द्वारा
??

इक पल के आवेश ने सबकुछ भयावह कर दिया
मेरे मन की अग्नि ने मुझको ही स्वाह कर दिया

क्रोध की चिंगारी मेरी ,मुझको ही सुलगा गयी
जला आशियाना किसी का ,घर मेरा भी जला गयी
सजा चिता अरमानों की खुद का ही दाह कर लिया
मेरे मन —-

पिंजरे का पंछी बन में, दर्द भरा मेरी आंखो में
सुलग रहा हूं पल पल मैं,उठे धुअॉ मेरी सांसो में
खुद ही अपने हाथों अपना जीवन आह कर लिया

मेरे मन —+
पलट जाये तस्वीर काल की, हर पल सोचा करता हूं
बन जाये सपना ये हकीकत ,जो में जीतामरता हूं
पश्चाताप की अग्नि भारी ,क्यूं ये गुनाह कर लिया
इक पल के आवेस ने सब कुछ भयावह कर दिया
मेरे मन की अग्नि ने मुझको ही स्वाह कर दिया

नूतन

175 Views
You may also like:
धरती माँ का करो सदा जतन......
Dr. Alpa H.
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
हे गुरू।
Anamika Singh
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मेरा ना कोई नसीब है।
Taj Mohammad
मेरा पेड़
उमेश बैरवा
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
💐कलेजा फट क्यूँ नहीँ गया💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जहर कहां से आया
Dr. Rajeev Jain
**नसीब**
Dr. Alpa H.
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
तुम मेरी हो...
Sapna K S
पिता
Buddha Prakash
सतुआन
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
नव सूर्योदय
AMRESH KUMAR VERMA
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
मन की मुराद
मनोज कर्ण
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
स्वप्न-साकार
Prabhudayal Raniwal
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
आ जाओ राम।
Anamika Singh
जिंदगी जब भी भ्रम का जाल बिछाती है।
Manisha Manjari
Loading...