Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2022 · 1 min read

“बेटी के लिए उसके पिता “

आर्या के शब्द मैंने बस कविता का नाम दिया
मैंने पूछा – आर्या आपके लिए आपके डैडी क्या हैं
आर्या ने बोलना शुरू किया जिसे सुनकर मैं स्तब्ध रह गई ।

मैं बीमार होती हूं ,
तो मेरे डैडी मुझे दवाई सी लगते हैं
मेरे चहरे की हंसी और,
स्माइल सी लगते हैं

वो घर से बाहर जाएं तो मुझे,
घर की दीवार और छत छोटी लगने लगती है
उनके बिना मेरी हर खुशी,
अधूरी सी लगती है

मेरे लिए वो मेरी
पूरी पढ़ाई बन जाते हैं
सपने मैं देखती , पूरे वो करते हैं
बात मेरी हो तो मेरे डैडी,
सारी दुनिया से लड़ सकते हैं
््््््
कभी खेल तो कभी खिलौने,
भी बन जाते हैं
मैं परेशान हो जाऊं
तो मेरा हौसला बन जाते हैं वो
मेरे डैडी मुझे हर बुरी नजर से बचाते हैं

नाम-आर्या शुक्ला
उम्र- आठ साल
रूबी चेतन शुक्ला
अलीगंज
लखनऊ

Language: Hindi
8 Likes · 10 Comments · 298 Views
You may also like:
जल
Saraswati Bajpai
कहते हो हमको दुश्मन
gurudeenverma198
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️हम वतनपरस्त जागते रहे..✍️
'अशांत' शेखर
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
नीति के दोहे 2
Rakesh Pathak Kathara
इक्यावन इन्द्रधनुषी ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Aksharjeet shayari..अपनी गलतीयों से बहुत कूछ सिखा हैं मैने ...
AK Your Quote Shayari
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
कोई तो जाके उसे मेरे दिल का हाल समझाये...!!
Ravi Malviya
सरस्वती वंदना
Shailendra Aseem
भिखारी छंद एवं विधाएँ
Subhash Singhai
सार संभार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
वर्तमान से वक्त बचा लो:चतुर्थ भाग
AJAY AMITABH SUMAN
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना...
Manisha Manjari
“दिव्य दर्शन देवभूमि का” ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
अथक प्रयास हो
Dr fauzia Naseem shad
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
मत समझना....
Seema 'Tu hai na'
हमरा अप्पन निज धाम चाही...
मनोज कर्ण
गरीबी
कवि दीपक बवेजा
सरकार और नेता कैसे होने चाहिए
Ram Krishan Rastogi
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
दीपावली
Dr Meenu Poonia
जिंदगी
लक्ष्मी सिंह
"कुछ तो गुन-गुना रही हो"☺️
Lohit Tamta
నా తెలుగు భాష..
विजय कुमार 'विजय'
फूल की महक
DESH RAJ
Loading...