Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

” —————————————- आम हो गयी गाली ” !!

अपशब्दों का दौर चला है , बात बात पर गाली !
हैं विचार स्वाधीन यहां पर , कुछ बटोरते ताली !!

पद की गरिमा भूल गये हैं , करते हैं मनमानी !
हेराफेरी शब्दों की है , होते ट्वीट सवाली !!

फिल्मों में भी चलन बढ़ा है , खूब गालियां बरसे !
खामोशी से सब स्वीकारें , जबरन बनें मवाली !!

सामाजिकता प्रश्न करे है , शिक्षा कैसी हमारी !
आत्मसात हम कर लेते हैं ,आम हो गयी गाली !!

गलती करना आदत सी है , जाने कब सुधरेगें !
समझौता करना सीखा है हम ना हुए बवाली !!

संविधान की सौगातों का , बेजा लाभ लिया है !
दायित्वों का भार न जाने , बस हक की रखवाली !!

बृज व्यास

1 Comment · 272 Views
You may also like:
अनामिका के विचार
Anamika Singh
पंचशील गीत
Buddha Prakash
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
संत की महिमा
Buddha Prakash
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपकी तारीफ
Dr fauzia Naseem shad
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
Loading...