Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 13, 2017 · 1 min read

नूर भर दिया

बह्र-मज़ारे अख़रव मकफूफ़ मकफूफ़ महजूफ़
रुक्न-मफऊल फाइलात मुफाईलु फाइलुन

*ग़ज़ल*
तुमने ही ज़िंदगी में मेरी नूर भर दिया।
ऐसा तराशा मुझको कुहीनूर कर दिया।।

तन्हा भटक रहा था मेरा हाथ थामकर।
तन्हाइयों को मेरी यूं काफूर कर दिया।।

कर दी है तुमने दिल में मुहब्बत की बारिसें।
बंजर ज़मीं को आपने ज़ागीर कर दिया।।

बीरान सी हवेली था किरदार ये मेरा।
इक ताजमह् ल सा इसे तामीर कर दिया।।

तुम जामवंत हो मेरे जीवन के राह में।
मुझको मिलाया मुझसे महावीर कर दिया।।

मेरी क़लम बे रंग औ बेज़ान थी पड़ी।
दी तुमने धार इसको शमशीर कर दिया।।

लफ़्जों में था बॅटा नहीं थे मेरे मायने।
तुमने ही जोड़कर मुझे तहरीर कर दिया।।

तेरे करम का रब मैं करू – कैसे शुक्रिया।
देखा था ख्वाब जो, उसे ताबीर कर दिया।।

कमजोर था “अनीश” मिला ऐसा हौसला।
इक कच्चा धागा था इसे जंजीर कर दिया।।
@nish shah

श्री अरविंद सिंह राजपूत को सादर समर्पित

1 Like · 343 Views
You may also like:
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
✍️स्कूल टाइम ✍️
Vaishnavi Gupta
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
नर्मदा के घाट पर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"पधारो, घर-घर आज कन्हाई.."
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...