Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 21, 2016 · 1 min read

आप हमसे यूँ मिले है शह्र में

आप हमसे यूँ मिले है शह्र में
गुल ही गुल के सिलसिले है शह्र में

अपनी सूरत आप ही देखा किये
आईने ही आईने हैं शह्र में

पांव के छाले अभी तक कह रहे
पै ब पै हम तुम चले है शह्र में

उम्र भर को आश्ना हमसे हुए
अजनबी ऐसे मिले है शह्र में

जिनकी किस्मत मंजिलें पाना नहीं
ऐसे भी कुछ रास्ते है शह्र में

कल कोई फिर ख्वाब पीकर मर गया
आज उसके तज़किरे है शह्र में

दम ब दम साया जो देते थे कभी
पेड़ वो काटे गये है शह्र में

नज़ीर नज़र

138 Views
You may also like:
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
✍️बारिश का मज़ा ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
अरदास
Buddha Prakash
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
दया करो भगवान
Buddha Prakash
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Deepali Kalra
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...