Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 1 min read

आप दिलकश जो है

मोहब्बत हमको है आपसे , आप दिलकश जो है।
करते हैं तारीफ हम आपकी,आप दिलकश जो है।।
मोहब्बत हमको है आपसे—————।।

आपका यह चेहरा हसीन, आपकी ये आँखें हसीन।
दीवाना हमको बनाती है, आपकी ये जुल्फें हसीन।।
हम देखते हैं तुम्हें बार बार, आप दिलकश जो है।
करते हैं तारीफ हम आपकी, आप दिलकश जो है।।
मोहब्बत हमको है आपसे————–।।

आपका यह हँसना हमको,लगता है गुलशन जैसा।
आपका यह प्यार हमको, लगता है हमदर्द जैसा।।
मांगते हैं तुमको खुदा से हम,आप दिलकश जो है।
करते है तारीफ हम आपकी, आप दिलकश जो है।।
हमको मोहब्बत है आपसे————–।।

यह आपकी मासूम शरारत, मदहोश हमको करती है।
यह आपकी सुंदरता हमको, एक माहताब लगती है।।
हम जान से हैं कुर्बान तुम पर, आप दिलकश जो है।
करते हैं तारीफ हम आपकी, आप दिलकश जो है।।
हमको मोहब्बत है आपसे—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
66 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
तुम्हारी आंखों का रंग हमे भाता है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
बेवफाई मुझसे करके तुम
बेवफाई मुझसे करके तुम
gurudeenverma198
करते तो ख़ुद कुछ नहीं, टांग खींचना काम
करते तो ख़ुद कुछ नहीं, टांग खींचना काम
Dr Archana Gupta
लोकतंत्र का मंत्र
लोकतंत्र का मंत्र
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
चॉंद और सूरज
चॉंद और सूरज
Ravi Ghayal
अपना भी नहीं बनाया उसने और
अपना भी नहीं बनाया उसने और
कवि दीपक बवेजा
वो चांद देखता है जरूर ,
वो चांद देखता है जरूर ,
Harshit Nailwal
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
दिल की हसरत नहीं कि अब वो मेरी हो जाए
शिव प्रताप लोधी
"न तितली उड़ी,
*Author प्रणय प्रभात*
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
ए जिंदगी तू सहज या दुर्गम कविता
Shyam Pandey
दिल से मुझको सदा दीजिए।
दिल से मुझको सदा दीजिए।
सत्य कुमार प्रेमी
शांत सा जीवन
शांत सा जीवन
Dr fauzia Naseem shad
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
हर फूल गुलाब नहीं हो सकता,
Anil Mishra Prahari
उदासियां
उदासियां
Surinder blackpen
सीखने की भूख
सीखने की भूख
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
हिद्दत-ए-नज़र
हिद्दत-ए-नज़र
Shyam Sundar Subramanian
मक़रूज़ हूँ मैं
मक़रूज़ हूँ मैं
Satish Srijan
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
Maa pe likhne wale bhi hai
Maa pe likhne wale bhi hai
Ankita Patel
यश तुम्हारा भी होगा।
यश तुम्हारा भी होगा।
Rj Anand Prajapati
नंदक वन में
नंदक वन में
Dr. Girish Chandra Agarwal
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
होली के त्यौहार पर तीन कुण्डलिया
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
चेहरा और वक्त
चेहरा और वक्त
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
मेरा चुप रहना मेरे जेहन मै क्या बैठ गया
पूर्वार्थ
*अक्षय-निधि 【मुक्तक 】*
*अक्षय-निधि 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
हज़ारों सदियाँ इतिहास के मंज़र से बे-निशान ग़ायब हो जाती हैं
हज़ारों सदियाँ इतिहास के मंज़र से बे-निशान ग़ायब हो जाती हैं
Dr. Rajiv
संसद उद्घाटन
संसद उद्घाटन
Sanjay
It's not about you have said anything wrong its about you ha
It's not about you have said anything wrong its about you ha
Nupur Pathak
💐प्रेम कौतुक-369💐
💐प्रेम कौतुक-369💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...