Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 18, 2022 · 1 min read

आप ऐसा क्यों सोचते हो

शीर्षक – आप ऐसा क्यों सोचते हो
——————————————————-
आप ऐसा क्यों सोचते हो,
कि मैं एक पापी और मुजरिम हूँ ,
हिंदुस्तान में पवित्र होना चाहता हूँ,
जिंदगी के नाम पर कलंक हूँ ,
दाग मैं यह मिटाना चाहता हूँ,
सबकी जुबां पर एक पहेली हूँ ,
जवाब इसका मैं देना चाहता हूँ।

धर्म की किताब में नास्तिक हूँ मैं,
परिभाषित इसको करना चाहता हूँ ,
इसकी कहानी और वजह है क्या,
यह अपनी कलम से लिखना चाहता हूँ ,
बदनसीब हूँ जन्म से मैं यहाँ,
ख्वाब सच करना चाहता हूँ मैं।

एक गरीब का हमदर्द बनकर,
जीना मरना चाहता हूँ मैं,
निर्वासित हूँ इस वतन में,
मुकाम अपना बनाना चाहता हूँ,
अनजान और अजनबी हूँ यहाँ,
महशूर मैं होना चाहता हूँ।

मिलेगा मुझको सभी का प्यार,
दिल सभी का जीतना चाहता हूँ,
अंतर्मुखी हूँ मैं स्वभाव से,
बेबाक सब कुछ कहना चाहता हूँ ,
करते हैं मुझसे यहाँ सभी नफरत,
आप ऐसा क्यों सोचते हो।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

1 Like · 1 Comment · 62 Views
You may also like:
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
दया करो भगवान
Buddha Prakash
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
रिश्तों की बदलती परिभाषा
Anamika Singh
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
एक तोला स्त्री
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
पिता
Santoshi devi
Security Guard
Buddha Prakash
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
सुख दुख
Rakesh Pathak Kathara
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
कारस्तानी
Alok Saxena
" नखरीली शालू "
Dr Meenu Poonia
दीये की बाती
सूर्यकांत द्विवेदी
पेड़ की अंतिम चेतावनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
तेरी खैर मांगता हूं खुदा से।
Taj Mohammad
गम आ मिले।
Taj Mohammad
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
सीख
Pakhi Jain
में और मेरी बुढ़िया
Ram Krishan Rastogi
अपने इश्क को।
Taj Mohammad
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
ताकि याद करें लोग हमारा प्यार
gurudeenverma198
☆☆ प्यार का अनमोल मोती ☆☆
Dr. Alpa H. Amin
Loading...