Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Aug 16, 2016 · 1 min read

आप अपनी दवा भी रखते हैं

आप अपनी दवा भी रखते हैं
हम दीये हैं हवा भी रखते हैं.!!

मुख्तसर लोग हैं जो आँखो में
शर्म ‘ ग़ैरत ‘ हया भी रखते हैं..!!

मौत की तलख़ियों से वाकिफ हैं
जिन्दगी का मज़ा भी रखते हैं..!!

जिस जगह हम हयात रखते हैं
उसके नीचे कज़ा भी रखते हैं..!!

जलवा ऐ जुम्बिश ऐ जानां मेरी
हम ग़ज़ल की अदा भी रखते हैं..!!

– राव नासिर

1 Comment · 327 Views
You may also like:
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पिता
Keshi Gupta
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पिता
लक्ष्मी सिंह
झूला सजा दो
Buddha Prakash
बुध्द गीत
Buddha Prakash
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
ठोकरों ने समझाया
Anamika Singh
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
जिन्दगी का जमूरा
Anamika Singh
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
Loading...