Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 24, 2021 · 1 min read

आपातकाल

लोकतंत्र से लोक हटा था
एक काली रात में।
आपातकाल का स्वाद चखा था
मेरे शांत भारत देश ने।
एक लोक सेविका बन बैठी थी महारानी
और करने लगी थी अपनी मनमानी।
लोकतंत्र के चारों स्तंभों को
खोखला उसनें कर डाला।
संविधान को भी उसनें
मात्र एक पुस्तक बना डाला।
जिस हाथ ने उंगली उठाई
जिस आंख ने आंख दिखाई
महारानी ने सबको जेलों में भर डाला।
भूख-प्यास से तड़पते रहे सब
झेलते रहे उसकी तानाशाही।
लोकतंत्र की आन पर तब
चोट बहुत गहरी आई ।
दुआ करो आज सभी
वो दिन इस देश मे फिर न आए कभी।

– श्रीयांश गुप्ता

2 Likes · 161 Views
You may also like:
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit Singh
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक ,...
Subhash Singhai
वक्त सा गुजर गया है।
Taj Mohammad
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
बेटी....
Chandra Prakash Patel
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
उपदेश से तृप्त किया ।
Buddha Prakash
क्या यही शिक्षामित्रों की है वो ख़ता
आकाश महेशपुरी
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
अग्नि पथ के अग्निवीर
Anamika Singh
एक दिन यह समझ आना है।
Taj Mohammad
जाने क्यों
सूर्यकांत द्विवेदी
*मन या तन *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
दर्द के रिश्ते
Vikas Sharma'Shivaaya'
रात गहरी हो रही है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मौत ने की हमसे साज़िश।
Taj Mohammad
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
प्रयास
Dr.sima
वर्तमान
Vikas Sharma'Shivaaya'
✍️डार्क इमेज...!✍️
"अशांत" शेखर
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H. Amin
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
Loading...