Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2022 · 1 min read

आपतो हो सुकून आंखों का

देख कर दिल को चैन मिलता है।
आप तो हो सूकून आंखों का ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

5 Likes · 1 Comment · 135 Views
You may also like:
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
आप से ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन की दुर्दशा
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
आस
लक्ष्मी सिंह
✍️लक्ष्य ✍️
Vaishnavi Gupta
ज़िंदगी हमको
Dr fauzia Naseem shad
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
वाक्य से पोथी पढ़
शेख़ जाफ़र खान
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
बुआ आई
राजेश 'ललित'
अधूरी बातें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दरमियां लफ़्ज़ों का
Dr fauzia Naseem shad
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
Loading...