Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 28, 2021 · 1 min read

आपको जन्मदिन मुबारक हो

एक औरत के कई किरदार होते है
कभी बेटी कभी बहन कभी पत्नी और सबसे अहम होता है माँ का किरदार….
माँ के दिल को तब तक नही समझा जा सकता जब तक खुद माँ न बने…
माँ सबसे पहले सिर्फ अपने बच्चे के बारे मे सोचती है गलत और सही बाद मे सोचती है….
माँ एक बेटी की सबसे अच्छी सहेली भी होती हैं एक बेटी अपनी माँ से हर बात कर सकती है…मेरी माँ तो बिलकुल ऐसे ही है
मेरी माँ मेरी बातों को समझती है माँ के साथी रहो तो लगता ही नही की हम दोनो मे उमर का इतना फासला है….

माँ सिर्फ शब्द नही एक पूरा अहसास है…लिखने बैठी तो सोचा ये भी लिखू वो भी लिखू पर माँ के बारे मे लिखने के लिए शब्द भी कम पढ़ जायेंगे l ईश्वर आपको लम्बी उमर दे….आपको जन्मदिन मुबारक हो

3 Likes · 2 Comments · 135 Views
You may also like:
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
मौलिक विचार
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
सागर बोला, सुन ज़रा
सूर्यकांत द्विवेदी
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2022
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'तुम भी ना'
Rashmi Sanjay
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
भगवान सुनता क्यों नहीं ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
गुजर रही है जिंदगी अब ऐसे मुकाम से
Ram Krishan Rastogi
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
दुनिया की रीति
AMRESH KUMAR VERMA
✍️✍️नींद✍️✍️
"अशांत" शेखर
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
*एक अच्छी स्वातंत्र्य अमृत स्मारिका*
Ravi Prakash
अँधेरा बन के बैठा है
आकाश महेशपुरी
जीवन की सौगात "पापा"
Dr. Alpa H. Amin
*आत्मा का स्वभाव भक्ति है : कुरुक्षेत्र इस्कॉन के अध्यक्ष...
Ravi Prakash
किंकर्तव्यविमूढ़
Shyam Sundar Subramanian
जैसा भी ये जीवन मेरा है।
Saraswati Bajpai
पिता का दर्द
Nitu Sah
दोहे
सूर्यकांत द्विवेदी
अंजान बन जाते हैं।
Taj Mohammad
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
दाता
निकेश कुमार ठाकुर
Loading...