Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Sep 22, 2022 · 1 min read

आपके नाम से ही पहचान हैं इस जमाने में “पापा”

आपके नाम से ही पहचान हैं इस जमाने में “पापा”
भला इससे बड़ी शौहरत ओर क्या होगी मेरे लिए “पापा”..!!
– कृष्ण सिंह

2 Likes · 1 Comment · 17 Views
You may also like:
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
Green Trees
Buddha Prakash
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
आओ तुम
sangeeta beniwal
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
“ तेरी लौ ”
DESH RAJ
ग़ज़ल
सुरेखा कादियान 'सृजना'
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...