Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Oct 10, 2016 · 1 min read

आपके दिल की दास्तान है शायद

कायनात भी मेहरबान है शायद
इश्क़ भी आज मेहमान है शायद
************************
सुन कर क्यों सुर्ख हो गये आप
आपके दिल की दास्तान है शायद
*************************
कपिल कुमार
10/10/2016

सुर्ख………….लाल

239 Views
You may also like:
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
कर्म का मर्म
Pooja Singh
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
Satpallm1978 Chauhan
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
छीन लिए है जब हक़ सारे तुमने
Ram Krishan Rastogi
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
Loading...