Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 5, 2022 · 1 min read

आपके जाने के बाद

सोचता हूँ आपके साथ बिताए वो दिन लौट आए
मेरी खुशियों के मेगा उमड़ आए
आपकी यादें हमेशा आती रहे
वह मेरी आँखें झरना बन जाए
आपकी मीठी बातें
अब ये कान सुनने को तरस जाए
और संसार की सारी बातें अनसुनी बन जाए
साथ आपका छूट चुका है
अब सारे साथी मुझसे रूठ जाए
कहाँ खोजुु आपको
मेरी ज़िंदगी आपकी खोज में निकल जाए
दिल तड़पता है हर पल मेरा
अब ये दिल पत्थर बन जाए
हर पल यह महसूस होता है
आपके जाने के बाद

लेखक
प्रदीप कुमार नागरवाल
ग्राम पोस्ट बांस को तहसील बस्सी जिला जयपुर

2 Likes · 2 Comments · 124 Views
You may also like:
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
*श्री प्रदीप कुमार बंसल उर्फ मुन्ना बंसल की याद*
Ravi Prakash
तेरा ख्याल।
Taj Mohammad
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
मैं मेरा परिवार और वो यादें...💐
लवकुश यादव "अज़ल"
स्थापना के 42 वर्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
नवगीत -
Mahendra Narayan
आप से हैं गुज़ारिश हमारी.... 
Dr. Alpa H. Amin
नियमित दिनचर्या
AMRESH KUMAR VERMA
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
✍️✍️रूपया✍️✍️
"अशांत" शेखर
प्यार का अलख
DESH RAJ
पर्यावरण पच्चीसी
मधुसूदन गौतम
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
एहसासों के समंदर में।
Taj Mohammad
मुकरिया__ चाय आसाम वाली
Manu Vashistha
मयंक के जन्मदिन पर बधाई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️घर में सोने को जगह नहीं है..?✍️
"अशांत" शेखर
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
*अमृत-सरोवर में नौका-विहार*
Ravi Prakash
नदी सदृश जीवन
Manisha Manjari
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...