Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2022 · 1 min read

आने वाला वर्ष भी दे हमें भरपूर उत्साह

कुछ घंटों में विदा हो जाएगा
सन 2022 का ये मौजूदा साल
कुछ को खुशियां और कुछ
उपलब्धि दे कर गया निहाल
कुछ खट्टी और कुछ मीठी
यादों का भी यह रहा गवाह
ईश्वर की कृपा से आने वाला
वर्ष भी दे हमें भरपूर उत्साह
मित्रए संबंधियों और परिजनों
में फूले औ फले स्नेह की बेल
इन सबमें कायम रहे सतत
संवाद का सुमधुर तालमेल
हे प्रभु देना हम सब को सदा
सन्मति औ समयानुकूल बुद्धि
जन कल्याण को ध्यान रखकर
हमें मिले हर कार्य में सिद्धि
सबको आने वाले वर्ष के लिए
मिले सुखए शांति और संतोष
कुटुंब और समाज में कायम
रहे निरंतर स्नेह और परितोष

Language: Hindi
1 Like · 35 Views
You may also like:
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
लोकतंत्र को मजबूत यदि बनाना है
gurudeenverma198
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
अब हम रोबोट हो चुके हैं 😢
Rohit yadav
भैंस के आगे बीन बजाना
भैंस के आगे बीन बजाना
Vishnu Prasad 'panchotiya'
गरीबी
गरीबी
कवि दीपक बवेजा
परिवार
परिवार
Abhishek Pandey Abhi
क्रांति के अग्रदूत
क्रांति के अग्रदूत
Shekhar Chandra Mitra
💐प्रेम कौतुक-480💐
💐प्रेम कौतुक-480💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कितने सावन बीते हैं
कितने सावन बीते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक मधुर मुस्कान दीजिए, सारी दुनिया जीत लीजिए
एक मधुर मुस्कान दीजिए, सारी दुनिया जीत लीजिए
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
^^बहरूपिये लोग^^
^^बहरूपिये लोग^^
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शेर
शेर
pradeep nagarwal
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
चंद अल्फाज़।
चंद अल्फाज़।
Taj Mohammad
कटी नयन में रात...
कटी नयन में रात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"माटी से मित्रता"
Dr. Kishan tandon kranti
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
छत्रपति शिवाजी महाराज की समुद्री लड़ाई
Pravesh Shinde
■ विकृत परिदृश्य...
■ विकृत परिदृश्य...
*Author प्रणय प्रभात*
तितली थी मैं
तितली थी मैं
Saraswati Bajpai
तुम मुझे भूल थोड़ी जाओगे
तुम मुझे भूल थोड़ी जाओगे
Dr fauzia Naseem shad
*रोते बूढ़े  ( कुंडलिया )*
*रोते बूढ़े ( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
✍️जुबाँ और कलम
✍️जुबाँ और कलम
'अशांत' शेखर
इतनें रंगो के लोग हो गये के
इतनें रंगो के लोग हो गये के
Sonu sugandh
नम पड़ी आँखों में सवाल फिर वही है, क्या इस रात की सुबह होने को नहीं है?
नम पड़ी आँखों में सवाल फिर वही है, क्या इस...
Manisha Manjari
"दूब"
Dr Meenu Poonia
तो क्या हुआ
तो क्या हुआ
Faza Saaz
पड़ जाओ तुम इश्क में
पड़ जाओ तुम इश्क में
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अलाव
अलाव
Surinder blackpen
कण कण में शंकर
कण कण में शंकर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हिंदी
हिंदी
Satish Srijan
Loading...