Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 24, 2017 · 2 min read

“आनंद ” की खोज में आदमी

“आनंद” की महकती मीठी दरिया में सुधबुध खोकर बहते चले गए ,
जाना था भवसागर पार पर जीवन के अंतिम सच के करीब पहुँच गए I

खुशबूदार हवा के झोकों में जीवन के आनंद को खोजते गये ,
ओंस की बूंदों में अपनी प्यास बुझाने का एक रास्ता ढूढ़ते रहे ,
रंगीन कागज़ के टुकड़ो के लिए विश्वास का धागा तोड़ते गए ,
तन के आनंद के खातिर जिन्दा लाश की मिसाल बनते गए I

“आनंद” की महकती मीठी दरिया में सुधबुध खोकर बहते चले गए ,
जाना था भवसागर पार पर जीवन के अंतिम सच के करीब पहुँच गए I

मिलावट के जहर से अपना वृहद साम्राज स्थापित करते चले गए ,
इंसानियत को दागदार कर समाज में नफरत का पौधा रोपते गए ,
फूलों के नस्लों को बर्बाद करके अपने सपने का किला बुनते गए ,
जज्बातों से खेलकर “जग के मालिक” के नाम को भी बेचते गए I

“आनंद” की महकती मीठी दरिया में सुधबुध खोकर बहते चले गए ,
जाना था भवसागर पार पर जीवन के अंतिम सच के करीब पहुँच गए I

भूख से तड़पते बच्चे को रोटी देने का आनंद भी देखा हमने ,
बहन – बेटी की आबरू को बचाने का आनंद भी देखा हमने ,
गरीब-मजलूम को सही राह दिखाने का भी आनंद देखा हमने ,
आस्था के लुटेरों से बन्दे को बचाने का आनंद भी देखा हमने I

“आनंद” की महकती मीठी दरिया में सुधबुध खोकर बहते चले गए ,
जाना था भवसागर पार पर जीवन के अंतिम सच के करीब पहुँच गए I

कर ले कितने भी जतन “ मालिक ” को अपने जीवन का लेखा-जोखा देना ही पड़ेगा ,
क्या कमाया तूने ? क्या गवायाँ तूने ? छणभंगुर जीवन का पन्ना खोलना ही पड़ेगा ,
कितना जुल्म दिया ? कितना जुल्म सहा तूने ? न्याय के मसीहा को बताना ही पड़ेगा ,
अपने “आनंद ” के लिए कितने दिल तोड़े ? कितने दिल जोड़े ? सबकुछ बताना पड़ेगा,
“राज” ओढ़ ले “मालिक की चुनरिया ” फिर भी तुझको अपना हिसाब तो देना ही पड़ेगा I

“आनंद” की महकती मीठी दरिया में सुधबुध खोकर बहते चले गए ,
जाना था भवसागर पार पर जीवन के अंतिम सच के करीब पहुँच गए I

*****

देशराज “राज”

1 Like · 418 Views
You may also like:
पापा क्यूँ कर दिया पराया??
Sweety Singhal
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu haina'
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
बरसात
मनोज कर्ण
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पिता
Kanchan Khanna
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
Loading...