Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

आधुनिकता

आधुनिकता की बलि वेदी पर
आज का मानव चढ़ गया ,
वह जीवित होते हुए भी
ज़िंदा लाश बन के रह गया
आज के इंसान ने
इक दूसरे से वास्ता रखना ही बंद कर दिया ,
अब उसने दिल से नहीं दिमाग से
काम लेना शुरू कर दिया ,
अब उसने माता- पिता को भी मॉम – डैड कहना शुरू कर दिया ,
आज उसने अपनी ” श्वेत संस्कृति ” पे
आधुनिकता का काला रंग चढ़ा के रख दिया |

द्वारा – नेहा ‘आज़ाद’

1 Like · 2 Comments · 194 Views
You may also like:
✍️✍️ए जिंदगी✍️✍️
'अशांत' शेखर
पानी बरसे मेघ से
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
साथ तुम्हारा
मोहन
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
ऊंची शिखर की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
जन्मदिन कन्हैया का
Jayanti Prasad Sharma
अपने और जख्म
Anamika Singh
themetics of love
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कठपुतली न बनना हमें
AMRESH KUMAR VERMA
I feel h
Swami Ganganiya
जम्हूरियत
बिमल
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मय है मीना है साकी नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
हमारी धरती
Anamika Singh
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
@@कामना च आवश्यकता च विभेदः@@
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
*विश्व योग का दिन पावन इक्कीस जून को आता(गीत)*
Ravi Prakash
उन्हें क्या पता।
Taj Mohammad
जीत-हार में भेद ना,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️मुझे तेरी तलाश नहीं✍️
'अशांत' शेखर
प्रकाशित हो मिल गया, स्वाधीनता के घाम से
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इश्क है यही।
Taj Mohammad
"अल्मोड़ा शहर"
Lohit Tamta
तड़पती रही मैं सारी रात
Ram Krishan Rastogi
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...