Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Oct 2022 · 1 min read

आदिवासी

हिंदू या मुसलमान नहीं हम
लेकिन क्या इंसान नहीं हम!
आदिवासी होने भर से शायद
इस देश के अवाम नहीं हम!!
आख़िर ज़ुल्म और नाइंसाफी
कब तक चुपचाप सहते रहें!
कह दो पागल तानाशाहों से
किसी के भी ग़ुलाम नहीं हम!!
Shekhar Chandra Mitra
#हक़ #अन्याय #न्याय #उत्पीड़न #शोषण #अत्याचार #athiest #tribes #forest
#जंगल #जमीन #आदिवासी #मूलनिवासी

Language: Hindi
Tag: कविता
51 Views
You may also like:
एक शाम ऐसी कभी आये, जहां हम खुद को हीं...
Manisha Manjari
एक हकीक़त
Ray's Gupta
शतरंज की चाल
Shekhar Chandra Mitra
"पराधीन आजादी"
Dr Meenu Poonia
भिखारी छंद एवं विधाएँ
Subhash Singhai
कोई दीपक ऐंसा भी हो / (मुक्तक)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुंदेली दोहा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुबह -सुबह
gpoddarmkg
तकदीर
Anamika Singh
सियासी चालें गहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
# शुभ - संध्या .......
Chinta netam " मन "
*दृश्य पर आधारित कविता*
Ravi Prakash
शहीद-ए-आजम भगतसिंह
Dalveer Singh
✍️कल और आज
'अशांत' शेखर
फ़ौजी
Lohit Tamta
तेरा नूर
Dr.S.P. Gautam
ईद
Taj Mohammad
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हासिल न कर सको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जीवनमंथन
Shyam Sundar Subramanian
दीपावली :दोहे
Sushila Joshi
■ अभिमत.....
*Author प्रणय प्रभात*
वर्तमान भी छूट रहा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नफरत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
शेर
Rajiv Vishal
कब तक
Kaur Surinder
💐 मेरी तलाश💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुमने दिल का
Dr fauzia Naseem shad
Qata
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...