Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2023 · 1 min read

आदिम परंपराएं

आधे जागे तो आधे
सोए जा रहे हम!
तो भी अपनी दुर्दशा पर
रोए जा रहे हम!
न जाने शर्म क्यों हमें
ज़रा भी नहीं आती!
वही आदिम परंपराएं
ढोए जा रहे हम!
#पाखंड #अंधविश्वास #आडंबर
#कर्मकांड #ढोंगी #धर्मगुरु
#पुरोहित #पोंगापंथ #कुरीति
#जातिवाद #कट्टर #ज़हालत
#नेता #संस्कृति #धर्म #कुप्रथा

Language: Hindi
330 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सृष्टि के रहस्य सादगी में बसा करते है, और आडंबरों फंस कर, हम इस रूह को फ़ना करते हैं।
सृष्टि के रहस्य सादगी में बसा करते है, और आडंबरों फंस कर, हम इस रूह को फ़ना करते हैं।
Manisha Manjari
प्रतियोगिता
प्रतियोगिता
krishan saini
"जल्दी उठो हे व्रती"
पंकज कुमार कर्ण
विधाता स्वरूप पिता
विधाता स्वरूप पिता
AMRESH KUMAR VERMA
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
एक पेड़ ही तो है जो सभी प्राणियो को छाँव देता है,
Shubham Pandey (S P)
2485.पूर्णिका
2485.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
" जंगल की दुनिया "
Dr Meenu Poonia
कहना मत राज की बातें
कहना मत राज की बातें
gurudeenverma198
हल्लाबोल
हल्लाबोल
Shekhar Chandra Mitra
सूरज दादा छुट्टी पर (हास्य कविता)
सूरज दादा छुट्टी पर (हास्य कविता)
डॉ. शिव लहरी
*वधू (बाल कविता)*
*वधू (बाल कविता)*
Ravi Prakash
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बगल में छुरी
बगल में छुरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मौसम मौसम बदल गया
मौसम मौसम बदल गया
The_dk_poetry
हम कहां तुम से
हम कहां तुम से
Dr fauzia Naseem shad
Writing Challenge- प्रकाश (Light)
Writing Challenge- प्रकाश (Light)
Sahityapedia
कमज़ोर सा एक लम्हा
कमज़ोर सा एक लम्हा
Surinder blackpen
बहुत सहा है दर्द हमने।
बहुत सहा है दर्द हमने।
Taj Mohammad
और प्रतीक्षा सही न जाये
और प्रतीक्षा सही न जाये
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
ढूढ़ा जाऊंगा
ढूढ़ा जाऊंगा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अद्भुत नाम
अद्भुत नाम
Satish Srijan
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
बहुत कड़ा है सफ़र थोड़ी दूर साथ चलो
Vishal babu (vishu)
💐Prodigy Love-28💐
💐Prodigy Love-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#हँसी
#हँसी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दहन अगर करना ही है तो
दहन अगर करना ही है तो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुबह का भूला
सुबह का भूला
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ वक़्त किसी को नहीं छोड़ता। चाहे कोई कितना बड़ा सूरमा हो।
■ वक़्त किसी को नहीं छोड़ता। चाहे कोई कितना बड़ा सूरमा हो।
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...