Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#13 Trending Author

आदमी से हटकर

यदि हम ,
कुछ पाना चाहते हैं
तो वह यह कि-
हम पाना
नहीं चाहते
अपने ही भीतर
खोया हुआ
आदमी. ।
यदि हम
कुछ करना
चाहते हैं,
तो यह कि-
हम कुछ भी
करना नहीं चाहते,
आदमी होते हुए।
यदि हम
कुछ सुनना
चाहते हैं,तो
वह यह कि-
हम सुनना नहीं चाहते
आदमी से
आदमी की बात ।
यदि हम
कुछ कहना
चाहते हैं तो वह
यह कि-
हम कुछ भी
कहना नहीं चाहते
आदमी की तरह
हाँ , अब यह बात
अलह़दा है कि-
आदमी से हटकर
हम सभी-कुछ
करना चाहतें हैं ।

2 Comments · 1100 Views
You may also like:
प्रश्न! प्रश्न लिए खड़ा है!
Anamika Singh
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
राब्ता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मातृभूमि
Rj Anand Prajapati
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
"अशांत" शेखर
प्रदीप छंद और विधाएं
Subhash Singhai
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
प्रेम...
Sapna K S
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
आस्था और भक्ति
Dr. Alpa H. Amin
✍️खुदगर्ज़ थे वो ख्वाब✍️
"अशांत" शेखर
मेरी बेटी
Anamika Singh
"लाइलाज दर्द"
DESH RAJ
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
✍️मेहरबानी✍️
"अशांत" शेखर
" सच का दिया "
DESH RAJ
कर्म ही पूजा है।
Anamika Singh
सुहावना मौसम
AMRESH KUMAR VERMA
बिखरना
Vikas Sharma'Shivaaya'
मेहनत
AMRESH KUMAR VERMA
मां-बाप
Taj Mohammad
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
✍️✍️गुमराह✍️✍️
"अशांत" शेखर
न झुकेगे हम
AMRESH KUMAR VERMA
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
गाँव री सौरभ
हरीश सुवासिया
सजना शीतल छांव हैं सजनी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
Loading...