#2 Trending Author
May 13, 2022 · 1 min read

आदमी कितना नादान है

आदमी स्वयं ही बुरा है,
दूसरो को बुरा बताता है।
वह अपने स्वार्थ के लिए,
दूसरो को खूब सताता है।।

आदमी कितना नादान है,
मंदिर में शंख घंटा बजाता है।
सोया हुआ वह स्वयं है,
भगवान को जाकर जगाता है।।

आदमी स्वयं कितना भूखा है,
रोज भगवान से मांगने जाता है।
स्वयं को माया की भूख लगी है,
भगवान को भोग लगाने जाता है।

आदमी कितना मूर्ख है,
स्वयं को ज्ञानवान बताता है।
पर मंदिर में जाकर वही,
रोज दीपक जलाने जाता है।।

अगर आदमी सोच बदल दे,
वह नेक इंसान बन जायेगा।
झूठे आडंबरो से बचकर ही,
वह सच्चे पथ पर जायेगा।।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

6 Likes · 8 Comments · 75 Views
You may also like:
🍀🌺प्रेम की राह पर-44🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
छद्म राष्ट्रवाद की पहचान
Mahender Singh Hans
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग४]
Anamika Singh
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
बस तुम्हारी कमी खलती है
Krishan Singh
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
आंखों में तुम मेरी सांसों में तुम हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H.
पिता की छाँव...
मनोज कर्ण
नर्सिंग दिवस पर नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भूले बिसरे गीत
RAFI ARUN GAUTAM
मां का आंचल
VINOD KUMAR CHAUHAN
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Loading...