Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Mar 18, 2022 · 1 min read

आदतें

अच्छी-बुरी आदत होती
हम सबों के अभ्यंतर में
उत्तम प्रवृत्ति अपना कर,
अधम लत को करे त्याग।

अच्छी व्यसन ही हमें
ले जाती है बुलंदी पर
निकृष्ट लत हमसबों को
करती निज स्तब्ध हयात‌ ।

उम्दा – अनिष्ट प्रवृत्ति को
उत्सर्ग में ही हम सबों को
लगता कुछ दिन की वक्त
सदा अपनाये उत्तम लत।

वैज्ञानिकों को माने तो हमे
किसी भी प्रवृत्ति भुलने‌ में
इक्कीस दिवा लगता वक्त
निकृष्ट आदतों को भुलने में ।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

338 Views
You may also like:
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
आस
लक्ष्मी सिंह
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
✍️बचपन का ज़माना ✍️
Vaishnavi Gupta
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
इश्क
Anamika Singh
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
पिता
Shailendra Aseem
न कोई जगत से कलाकार जाता
आकाश महेशपुरी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
Loading...