Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 22, 2017 · 1 min read

“आत्म-निर्भरता और दुनिया”

कभी मैं भूल जाती हु
कभी उन्हें याद रहता है,
भूल-भलैया खेल में आखिर,
अजनबी ही साथी बन साथ निभाते है,

नज़र तो है जो परख लेती है,
पर अपने ही मुश्किलें बढ़ा देते है,

हमने सोचा बात कापी-किताबों तक है,
गद्दार चाकू-छुरों से वार कर बैठे….।।

मिले कोई डोर दिलों के संयोजन की,
अपना भी …………..उद्धार हो जाए,
महेंद्र परवाह नहीं सकता ,
दुनिया की :-
कोई दिवाना कहता है,
कोई पागल समझता है,
अपनी तो दुनिया खुद से शुरू होकर,
आत्म-निर्भरता …….पैदा करती है,

डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,

1 Like · 1 Comment · 153 Views
You may also like:
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गीत- जान तिरंगा है
आकाश महेशपुरी
पितृ-दिवस / (समसामायिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
बुआ आई
राजेश 'ललित'
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
बुन रही सपने रसीले / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अब आ भी जाओ पापाजी
संदीप सागर (चिराग)
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
पिता
Satpallm1978 Chauhan
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
आदर्श पिता
Sahil
✍️रास्ता मंज़िल का✍️
Vaishnavi Gupta
बेजुबां जीव
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
Loading...