Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 14, 2021 · 1 min read

आत्महंता।

एक ही पल होता है टूटने का ,
एक ही छण होता है बिखरने का,
और ये एक ही पल ,
एक ही छण,
अचानक ही नहीं आ जाता,
इसके पीछे छुपे रहते हैं,
दिन,
हफ्ते,
महीने,
साल,
जो उसे कोंचते रहते हैं,
सालो साल,
जो करते हैं आत्मघात,
उसके अपने,
नहीं समझ पाते उसकी परेशानियां ,
नहीं जान पाते ,
नहीं डिकोड कर पाते,
उसके परेशान होने की निशानियां,
उसको धीरे धीरे कत्ल करती,
उसकी पीड़ादायक कहानियां,
ये कहना आसान है,
बहुत ही आसान है,
की जो स्वयं चला गया वह कायर था ,
डिफेक्टिव था,
फ्यूज हो चुका वायर था,
पर क्या कभी हम यह भी सोचते हैं,
की हम उन्हें क्यों नहीं समझ नहीं पाए,
क्यों हमारी निगाहों से ओझल रह गए,
उनकी आत्मा पर तैरते काले साये,
हम स्वयं को बहुत समझदार ,
दयावान समझते हैं,
पर वास्तविकता के धरातल पर,
हम अपनी अपनी,
स्वार्थ की वैसाखियों के सहारे ही चलते हैं,
और ये वैसाखियाँ,
हमें टोकती हैं,
हमें रोकती हैं,
तथा ये हमें वही दिखाती हैं,
जो ये स्वार्थ की आंखों से देखती हैं।

6 Likes · 2 Comments · 220 Views
You may also like:
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
योग तराना एक गीत (विश्व योग दिवस)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रश्न चिन्ह
Shyam Sundar Subramanian
इच्छा
Anamika Singh
मैं भारत हूँ
Dr. Sunita Singh
बेपनाह गम था।
Taj Mohammad
✍️कल के सुरज को ✍️
'अशांत' शेखर
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Nurse An Angel
Buddha Prakash
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
ग़ज़ल कहूँ तो मैं असद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मायका
Anamika Singh
जो बीत गई।
Taj Mohammad
पढ़ाई - लिखाई
AMRESH KUMAR VERMA
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
आखिर क्या... दुनिया को
Nitu Sah
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
कांटों पर उगना सीखो
VINOD KUMAR CHAUHAN
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
यकीन कैसा है
Dr fauzia Naseem shad
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
💐खामोश जुबां 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खंडहर हुई यादें
VINOD KUMAR CHAUHAN
शोहरत नही मिली।
Taj Mohammad
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
आजादी का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
प्रश्न पूछता है यह बच्चा
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Loading...