Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 29, 2017 · 1 min read

आत्मविश्वास’ (मेरेअंदर का आकाश)

मेरे अंदर मेरा अपना निजी आकाश है.
वो बहुत विशाल,वृहद,
अनंत और विराट है .
मेरी अपनी आकाश गंगा में चमकते हैंं
अनगिनत सितारे, सोच के सितारे
चाहत के नक्षत्र खुशियो के नज़ारे .
बाहरी दखलअंदाज़ों से अछूता
मेरा आकाश .
यहाँ बिखरे हैं रोशनी के फव्वारे.
दुःख, दर्द ,हताशा का.
नहीं यहाँ कोई ,नामों निशाँ .
यहाँ सितारे टूटते नहीं .
हिम्मत और उम्मीद को
नये आयाम देते हैं .
आये दिन ये मुझे
मेरे होने का पयाम देते हैं .
यहीं से आस निकलती है
आगे बढ़ने की .
बाहरी दुनिया में फैले
व्यभिचार से लड़ने की .
जब भी कोई ज़हरीला नाग
मुझे डसने को फन उठाता है .
उसे कुचलने का साहस
इसी अमृत कलश सेआता हैै .
मेरा अपना आकाश मुझे बहुत सुहाता है .
मेरा सप्तरिशि मुझसे अक्सर बतियाता है .
वो मुझे अटल ,अडिग रह
अनन्त तक पहुँचने के गुर बताता है .
मेरा ध्रुव मुझे इस
दुनियावी तपते रेगिस्तान से
अछूते निकलने की राह दिखाता है .
मेरा निजी आकाश ही
मेरे त्रास का त्राता है .
मेरे अपने अंदर वाले आकाश का
अपना अलग ही ठाठ है .
मेरा अंदर वाला आकाश,,
मेरा ‘आत्म विश्वास’,
बाहर वाले ब्रह्मांड से भी,
वृहद,विशाल,अनंत और विराट है .
अनंत और विराट है।
अपर्णा थपलियाल”रानू”

220 Views
You may also like:
अरदास
Buddha Prakash
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
गज़ल
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
दीवार में दरार
VINOD KUMAR CHAUHAN
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shailendra Aseem
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
पिता
Deepali Kalra
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
हमको जो समझे हमीं सा ।
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...