Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2022 · 1 min read

‘विश्व जनसंख्या दिवस’

आज विश्व में जनसंख्या ने भयावह रूप ले लिया है। यद्यपि आज शिक्षा के कारण व्यक्ति जनसंख्या पर नियंत्रण करने की कोशिश तो कर रहा है पर उतनी सफलता नहीं मिल पा रही है। चिकित्सा विज्ञान में नयी नयी तकनीक से मानव ने अनेक बीमारियों पर काबू कर लिया है ।इससे मृत्यु दर में अवश्य गिरावट हुई है।
भारत में भी जनसंख्या दर निरंतर बढ़ रही है। एक परिवार में पति-पत्नी दो सदस्य हैं और हर परिवार में दो दो बच्चे भी हुए तो जनसंख्या तब भी दुगुनी तो हो ही जाएगी ।

जितनी जनसंख्या बढ़ेगी उतने संसाधन कम होते जाएंगे। वन घटेंगे खेत कम होंगे क्योंकि स्कूल ,अस्पताल, फैक्ट्रियाँ बनेंगे।रहने के लिए घर बनेंगे।खेती की जमीन कम होगी ।खाद्यान्न कम होंगे। मंहगाई बढ़ेगी। कर बढ़ जाएंगे। अगर कर नहीं बढे़गा तो विकास के कार्य कैसे हो पाएंगे। सुविधाओं से वंचित होना पढ़ेगा। अपराध भी बढ़ जाएंगे।
इसलिए जनसंख्या नियंत्रण की ओर सबको ध्यान देना आवश्यक है। समाज का विकास ठप हो जाएगा। व्यक्ति के लिए जीवन दुश्वार बन जाएगा।
विकास तो हो रहा है लेकिन अथाह जनसंख्या के कारण दिखाई नहीं पड़ रहा है।
हम सभी का कर्तव्य है कि आनेवाली पीढ़ियों के विषय में अवश्य सोचें।
-GN

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 2 Comments · 222 Views
You may also like:
*निरर्थक दौड़ पद-धन की सदा जल्दी थकाती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
तुम भी बढ़ो हम भी बड़े
कवि दीपक बवेजा
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️रूह के एहसास...
'अशांत' शेखर
पहचान
Anamika Singh
सकठ गणेश चतुर्थी
Satish Srijan
यह मकर संक्रांति
gurudeenverma198
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल मुसलसल आज भी तुमको याद करता है।
Taj Mohammad
■ छोड़ो_भी_यार!
*Author प्रणय प्रभात*
कभी - कभी .........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
चाहे जितनी देर लगे।
Buddha Prakash
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
✴️✳️हर्ज़ नहीं है मुख़्तसर मुलाकात पर✳️✴️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शुभचिंतक, एक बहन
Dr.sima
उसकी मुस्कराहट के , कायल हुए थे हम
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बंकिम चन्द्र प्रणाम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नफरत के कांटे
shabina. Naaz
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
बिस्तर की सिलवटों में
Kaur Surinder
मत जहर हवा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" हमरा सबकें ह्रदय सं जुड्बाक प्रयास हेबाक चाहि "
DrLakshman Jha Parimal
गंगा
डॉ. रजनी अग्रवाल 'वाग्देवी रत्ना'
हिंदी
Vandana Namdev
तुम हो मेरे लिए जिंदगी की तरह
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कदम
Arti Sen
🚩पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जेंडर जेहाद
Shekhar Chandra Mitra
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
Loading...