Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jul 2022 · 1 min read

आज भी याद है।

वो महफिले इत्तेफ़ाक आज भी याद है।
जिसमें तुम कभी मिले थे हमको।।

मुहब्बत आज भी वैसी है तुमसे हमारी।
बस जैसे दिलसे आज ही हुई हो।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 90 Views
You may also like:
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
अब कहाँ उसको मेरी आदत हैं
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार कर्ण
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
सवाल कब
Dr fauzia Naseem shad
अनामिका के विचार
Anamika Singh
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता
नवीन जोशी 'नवल'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
माँ
आकाश महेशपुरी
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Keshi Gupta
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
दया करो भगवान
Buddha Prakash
ओ मेरे साथी ! देखो
Anamika Singh
Loading...