Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 25, 2022 · 1 min read

आज फिर

रात को देकर चले हैं, चंद सपने आज फिर।
कुछ महकते याद आये, मुझको अपने आज फिर।

मैं अकेले क्या चलूँगी, रुक गई इक मोड़ पर।
लौट कर आओ कहीं से, साथ चलने आज फिर।

सुरमई पुरवाई के संग, बीत जाना था जिन्हें,
कुछ मोहब्बत के चले थे, खत सुलगने आज फिर।

झूठ औ सच खुल गए तो, रंग बदलेंगे कई,
हाथ से कसमों के पन्नें, हैं सरकने आज फिर।

उँगलियों संग साज भी, टूटे मिले हैं किसलिए
थे चले महफिल सजा वो, याद करने आज फिर

स्वरचित
रश्मि लहर
लखनऊ

1 Like · 2 Comments · 59 Views
You may also like:
श्रीराम धरा पर आए थे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
तुम जो मिल गई हो।
Taj Mohammad
ये मोहब्बत राज ना रहती है।
Taj Mohammad
गर्दिशे जहाँ पा गये।
Taj Mohammad
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
When I missed you.
Taj Mohammad
मै जलियांवाला बाग बोल रहा हूं
Ram Krishan Rastogi
जो खुद ही टूटा वो क्या मुराद देगा मुझको
Krishan Singh
લંબાવને 'તું' તારો હાથ 'મારા' હાથમાં...
Dr. Alpa H. Amin
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
वक़्त
Mahendra Rai
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
दिल से निकले हुए कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
👌स्वयंभू सर्वशक्तिमान👌
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़र वो है बेवफ़ा बेवफ़ा ही सही
Mahesh Ojha
“ गलत प्रयोग से “ अग्निपथ “ नहीं बनता बल्कि...
DrLakshman Jha Parimal
दिवस नहीं मनाये जाते हैं...!!!
Kanchan Khanna
नोटबंदी ने खुश कर दिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
💐💐प्रेम की राह पर-21💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'विनाश' के बाद 'समझौता'... क्या फायदा..?
Dr. Alpa H. Amin
Apology
Mahesh Ojha
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरे संग...
Dr. Alpa H. Amin
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
किस राह के हो अनुरागी
AJAY AMITABH SUMAN
Loading...