Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 4, 2022 · 1 min read

आज फिर मैं

आज फिर मैं,
बेचकर अपना ईमान और स्वाभिमान,
उस दुकान पर,
जहाँ तोला नहीं जाता तराजू पर,
वजन बराबर- बराबर,
कह आया उस दुकानदार से,
मेरी गलती नहीं होने पर भी,
कि अपराधी मैं ही हूँ।

आज फिर मैं,
झुक गया उसके दरवाजे पर,
कर लिया उससे समझौता,
कि नहीं छोड़ूंगा मैं तेरा साथ,
और नहीं चाहूँगा तेरा बुरा,
उसको दे दिया ऐसा लिखकर,
कि तेरा ही है मुझ पर अधिकार,
जबकि मिला नहीं है उससे कभी,
मुझको सम्मान और सहयोग।

आज फिर मैं,
देने चला गया उसको ,
अपना खून और दौलत,
अपनी खुशी और सपनें,
जिसने किया है हमेशा,
मुझको बर्बाद और बदनाम,
जिसने किया है नेतृत्व हमेशा,
मेरे विरोधियों और दुश्मनों का,
जिसने बिछाये हैं हमेशा ही,
मेरी मंजिल और राह में कांटें।

आज फिर मैं,
उसी मेरे दोस्त को,
दे आया हूँ यह दुहाएँ,
कि वह हमेशा आबाद रहे,
हमेशा खुश और स्वस्थ रहे।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

39 Views
You may also like:
बस तुम ही तुम हो।
Taj Mohammad
आलिंगन हो जानें दो।
Taj Mohammad
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
फास्ट फूड
Utsav Kumar Aarya
हृदय का सरोवर
सुनील कुमार
सहारा हो तो पक्का हो किसी को।
सत्य कुमार प्रेमी
स्वर्गीय रईस रामपुरी और उनका काव्य-संग्रह एहसास
Ravi Prakash
पिता
Pt. Brajesh Kumar Nayak
उस वक़्त
shabina. Naaz
✍️✍️असर✍️✍️
'अशांत' शेखर
✍️वो भूल गये है...!!✍️
'अशांत' शेखर
दिल से मदद
Dr fauzia Naseem shad
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
यूं तुम मुझमें जज़्ब हो गए हो।
Taj Mohammad
इंसानों की इस भीड़ में
Dr fauzia Naseem shad
✍️सियासत✍️
'अशांत' शेखर
रुक क्यों जाता हैं
Taran Singh Verma
मजदूरों का जीवन।
Anamika Singh
ईश्वर का वरदान है उर्जा
Anamika Singh
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आईना देखना पहले
gurudeenverma198
जिन्दगी को ख़राब कर रहे हैं।
Taj Mohammad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे प्रभु श्री राम...
Taj Mohammad
✍️मुझे तेरी तलाश नहीं✍️
'अशांत' शेखर
जय जय इंडियन आर्मी
gurudeenverma198
एक फूल खिलता है।
Taj Mohammad
वो मेरा हो नहीं सकता
dks.lhp
रूको भला तब जाना
Varun Singh Gautam
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...